Social Share:
आलू, प्याज और लहसुन के उत्पादन पर कई सत्रों का आयोजन

सब्जी विज्ञान विभाग, बी.पी.पाल सभागार, राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान विभाग, मध्य प्रदेश, हरियाणा और यूपी के किसानों के समूह द्वारा आयोजित राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान परिसर के तत्वावधान में दो दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया है। इस दो दिवसीय संगोष्ठी का विषय प्याज, लहसुन, आलू उत्पादन और तकनीकी के प्रबंधन द्वारा किसानों की आजीविका के मुद्दे पर आयोजित किया गया है। सेमिनार का आयोजन 11 से 12 मार्च तक किया गया जिसमें कई विषयों पर चर्चा की गई। इस संगोष्ठी में आलू, प्याज, लहसुन, विशेष रूप से अच्छी गुणवत्ता वाली कई सब्जियों की वैज्ञानिक खेती करने पर विशेष चर्चा की गई, ताकि किसानों की आय को आसानी से दोगुना किया जा सके।

 

इन सत्रों का हुआ आयोजन

इस विशेष संगोष्ठी में, किसानों की आय बढ़ाने के साथ कई विशेष सत्रों पर एक चर्चा का आयोजन किया गया है। इस सत्र में कई विषय आयोजित किए जाते हैं -

  • आलू की नई तकनीकों पर चर्चा हेतु
  • प्याज, लहसुन, आलू का रणनातिक प्रबंधन और उनकी राजनीतिक क्षमता
  • पेरिअनर्बन बागवानी हेतु अवसर और कई तरह की चुनौतियां

 

कार्यक्रम की अध्यक्षता केएल चड्ढा, एचके शर्मा, अध्यक्ष, हॉर्टिकल्चर सोसाइटी ऑफ इंडिया, सदस्य सचिव डॉ. बी.एस. तोमर, सब्जी विज्ञान विभाग आदि ने की है, इसी क्रम में संस्था के निदेशक डॉ.पी.के.गुप्ता ने राष्ट्रीय बागवानी मिशन द्वारा चलाए जा रहे विकास कार्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान की है, जो मिशन, कार्यक्रम और अन्य संस्थानों द्वारा चलाए जाते हैं। इस विशेष संगोष्ठी में सरकारी और गैर सरकारी संगठनों के प्रदर्शनी स्टॉल लगाए गए थे और इसमें दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश के 400 किसानों ने भाग लिया था। इसमें कटाई संबंधी तकनीकों की जानकारी दी गई है।

 

अन्य सत्रों में चर्चा की गई

इस सेमिनार में अन्य सत्रों और चरणों का आयोजन किया गया। इसमें चौथा तकनीकी सत्र बागवानी फसलों में जैविक फसलों की खेती करके अधिक आय पैदा करने पर जोर जोर दिया गया है। कृषि का अच्छा मूल्य प्राप्त करने के अलावा, एक कृषि उत्पादक संगठन बनाकर, उसके उत्पाद का अधिकतम मूल्य दिया गया है। नाबार्ड के दूसरे व्याख्यान में यह बताया गया है कि किसान कैसे एक संगठन बना सकते हैं। साथ ही उसे सरकार से मिलने वाले कर्ज का लाभ आसानी से मिल सकता है। इसके अलावा, किसान एफपीओ और पंजीकरण के बारे में भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।