Social Share:
kisan news
मौसम का साथ रहा तो इस बार नहीं रोयेगा प्याज किसान

 

हल्द्वानी: नैनीताल जिले में प्याज के उत्पादन में कोटाबाग ब्लॉक एक बार फिर अन्य न्यायपालिका से आगे रहा है। कोटाबाग में 98.25 हेक्टेयर का क्षेत्रफल 1848.16 मीट्रिक टन अनुमानित है, जबकि रामनगर में केवल 0.98 हेक्टेयर में 7.73 मीट्रिक टन प्याज होगा। इस साल प्याज 388.51 हेक्टेयर क्षेत्र में बोया गया था, जिससे इस सीजन में 5313.61 मीट्रिक टन प्याज का उत्पादन होने की उम्मीद है। पहाड़ी क्षेत्रों से प्याज मई-जून में हल्द्वानी मंडी में आता है। इस दौरान दिल्ली, उत्तर प्रदेश सहित देश की अन्य मंडियों से प्याज नहीं आता है। इससे स्थानीय किसानों की प्याज की मांग बढ़ जाती है। भाबर क्षेत्र में दिसंबर में की जाने वाली प्याज की फसल मार्च-अप्रैल तक तैयार हो जाएगी, लेकिन मंडी में भाबर की बजाय पहाड़ से आने वाले प्याज की मांग आमतौर पर अधिक है। मौसम अनुकूल रहा और किसानों को फसल काटने के बाद अच्छे दाम मिलते हैं, तो इस बार प्याज की खेती किसानों के लिए फायदेमंद साबित होगी।

 

विकासखंड           क्षेत्रफल           उत्पादन 

भीमताल              73.60           1035.14 

धारी                    45.35           442.51 

ओखलकांडा          50.20           752.27 

रामगढ़                13.25           132.15 

बेतालघाट            49.04           463.32 

हल्द्वानी             57.85            632.33 

कोटाबाग             98.25           1848.16 

रामनगर             0.98              7.73 

नोट: नैनीताल जिले में विकासखंड स्तर पर प्याज उत्पादन का क्षेत्रफल हेक्टेयर व उत्पादन मीट्रिक टन में।

 

अच्छी उपज की संभावना

जीवन सिंह कार्की, अध्यक्ष, आलू, फल आढ़ती व्यापारी एसोसिएशन ने कहा कि इस बार बारिश और बर्फबारी से प्याज की अच्छी पैदावार होने की संभावना है। अगर मौसम सही रहा तो इस बार प्याज का उत्पादन उम्मीद के मुताबिक होगा। अच्छी गुणवत्ता वाले किसानों को भी अच्छे दाम मिलेंगे।

 

संरक्षित खेती जंगली जानवरों से फसलों की रक्षा करेगी

नैनीताल जिले के पहाड़ी क्षेत्रों में जंगली जानवरों से अत्यधिक प्रभावित, उद्यान विभाग संरक्षित खेती को बढ़ावा देगा। विभाग को पहाड़ों में ट्यूबलर स्ट्रक्चर पॉलीहाउस बनाने के लिए सरकार से बजट की मंजूरी मिल गई है। लगभग दो सौ किसानों को इस योजना का लाभ देने का लक्ष्य रखा गया है। यदि लाभार्थियों की संख्या अधिक है, तो योजना का दायरा बढ़ाया जाएगा, ताकि अधिक से अधिक किसानों को इसका लाभ मिल सके। पर्वतीय क्षेत्रों में अप्रशिक्षित सब्जी उत्पादन आसानी से किया जा सकता है। ट्यूबलर स्ट्रक्चर पॉलीहाउस प्रणाली को विभिन्न फूलों और सब्जियों की संरक्षित खेती के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है। अब इसके महत्व को देखते हुए, बागवानी विभाग ने पहाड़ी किसानों को 15% अतिरिक्त अनुदान देने का निर्णय लिया है। 500 से 4000 वर्ग मीटर भूमि में पॉलीहाउस बनाया जा सकता है।

 

विभाग अतिरिक्त अनुदान देगा

भावना जोशी, डीएचओ, नैनीताल ने कहा कि उद्यान विभाग अतिरिक्त अनुदान देकर पहाड़ी क्षेत्रों में माल ढुलाई और अन्य सुविधाओं को जुटाने के लिए इस्तेमाल किए गए धन की भरपाई करेगा। पर्वतीय क्षेत्रों में संरक्षित खेती योजना में किसान भी रुचि दिखा रहे हैं। अब तक दो सौ से अधिक किसानों ने इस बारे में जानकारी ली है। भविष्य में यह काफी किफायती साबित होगा।