n
Social Share:
किसानो की परेशानी हुई हल इस बार सामान्य रहेगा मानसून

किसानो को इस साल मौसम को लेकर ज्यादा चिंता करने की जरुरत नहीं हे, क्यूंकि हाल ही में मौसम विभाग ने यह संभावना जताई हे की इस साल मानसून सामान्य रहेगा ! इसे कृषि एवं अर्थव्यवस्था के लिए बेहतर भी बताया गया हे ओर मौसम के सामान्य रहने से कृषि में किसानो को लाभ ही होगा ! मार्च की वायुमंडलीय ओर प्रशांत महासागर की प्रारम्भिक स्थितियों को देखते हुए मौसम विज्ञान विभाग के महानिदेशक डॉ. के. जे. रमेश ने मानसून की यह स्थिति बताई। यह सब देखते हुए उन्होंने कहा है की इस साल जून से सितम्बर तक देश में औसत मानसून वर्षा ९६ फीसदी तक रहने के आसार है ओर यह भी बताया की जून की शुरुआत में ही बता दिया जाएगा की देश के किस  हिस्से में कितनी बारिश होगी।

पिछले साल भी मौसम विभाग ने सामान्य से अधिक वर्षा होने का पहले से ही अनुमान जारी किया था , लेकिन बारिश सामान्य स्तर पर ही हुई।  वही दूसरी ओर तमिलनाडु , कर्नाटक ओर केरल के कुछ हिस्सों में सूखे जैसे हालात बने थे।किसानो की परेशानी हुई हल इस बार सामान्य रहेगा मानसून

किसानो को इस साल मौसम को लेकर ज्यादा चिंता करने की जरुरत नहीं हे, क्यूंकि हाल ही में मौसम विभाग ने यह संभावना जताई हे की इस साल मानसून सामान्य रहेगा ! इसे कृषि एवं अर्थव्यवस्था के लिए बेहतर भी बताया गया हे ओर मौसम के सामान्य रहने से कृषि में किसानो को लाभ ही होगा ! मार्च की वायुमंडलीय ओर प्रशांत महासागर की प्रारम्भिक स्थितियों को देखते हुए मौसम विज्ञान विभाग के महानिदेशक डॉ. के. जे. रमेश ने मानसून की यह स्थिति बताई। यह सब देखते हुए उन्होंने कहा है की इस साल जून से सितम्बर तक देश में औसत मानसून वर्षा ९६ फीसदी तक रहने के आसार है ओर यह भी बताया की जून की शुरुआत में ही बता दिया जाएगा की देश के किस  हिस्से में कितनी बारिश होगी।

पिछले साल भी मौसम विभाग ने सामान्य से अधिक वर्षा होने का पहले से ही अनुमान जारी किया था , लेकिन बारिश सामान्य स्तर पर ही हुई।  वही दूसरी ओर तमिलनाडु , कर्नाटक ओर केरल के कुछ हिस्सों में सूखे जैसे हालात बने थे!