Social Share:
गेहूं (Wheat) की फ़सल का महत्त्व
गेहूं (Wheat) की फ़सल का महत्त्व

गोविंद कुमार1, दीपक कुमार दिवाकर2, डा. विकास सिंह सेंगर1, अमित सिंह1 एवं आदित्य अभिनव2, आशुतोष कुमार2 
1.    असिस्टेंट प्रोफेसर, डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर, शिवालिक इंस्टीट्यूट आफ प्रोफेशनल स्ट्डीज देहरादून उत्तराखंड
2.    तृतीय वर्ष बी. एस. सी., कृषि संकाय, शिवालिक इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज


गेहूँ विश्वव्यापी महत्त्व की फ़सल है। यह लाखों लोगों का मुख्य खाद्य है। मुख्य रूप से एशिया में धान की खेती की जाती है, तो भी विश्व के सभी प्रायद्वीपों में गेहूँ उगाया जाता है। विश्व की बढ़ती जनसंख्या के लिए गेहूँ लगभग 20 प्रतिशत आहार कैलोरी की पूर्ति करता है। भारत में, गेहूँ के आटे का प्रयोग रोटी, पराठे और शीरा आदि जैसे पदार्थ बनाने के लिए किया जाता है। इसका प्रयोग कर पास्ता और नूडल्स् भी बनाये जा सकते हैं। साथ ही साथ गेहूं का उपयोग दलिया बनाने में भी किया जाता है। गेहूं के दाने में ग्लूटेन प्रोटीन होता है : 8-11%., अच्छी रोटी की गुणवत्ता और चपत्ती बनाने के लिए ग्लस्टन प्रोटीन आवश्यक है। भारत में गेहूँ चावल के उत्पादन के बाद दूसरी फसल है जबकि दुनिया में प्रथम और क्षेत्रफल और उत्पादन दोनों के मामले में। गेहूं को अनाज का राजा भी कहा जाता है। गेहूं (Wheat) का वानस्पतिक नाम - ट्रिटिकम ऐस्टिवम , परिवार - पोएसी (पुराना नाम ग्रैमिनाई है तथा गुणसूत्र संख्या = 2n = 42 होती है।
सेमिनल जड़ें : अस्थायी जड़ें, यह फसल के प्रारंभिक चरण के दौरान पौधे के पोषण के लिए जिम्मेदार है।
ताज की जड़ (Crown root) : स्थायी जड़ें बुवाई के 20-25 दिनों के बाद दिखाई देती हैं।

मिट्टी और जलवायु
गेहूं को 20 -25°c के इष्टतम तापमान के साथ ठंडी और शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है, अंकुरण के लिए इष्टतम तापमान : 20 - 25°c, जुताई के लिए इष्टतम तापमान : 16 - 20°c, अनाज बनाने के लिए इष्टतम तापमान : 23-25°, भारत में गेहूं रबी या सर्दी के मौसम में उगाया जाता है।

मिट्टी: अच्छी जल निकासी वाली दोमट और चिकनी दोमट मिट्टी। भारत-गंगा के मैदानों की जलोढ़ मिट्टी में सर्वोत्तम वृद्धि प्राप्त की जाती है।

खेत की तैयारी 
2-3 बार कल्टीवेटर का प्रयोग करें और खेत को समतल करें।

बुवाई की विधि 
1. ब्रॉड कास्टिंग 
2.  हाथ से प्लग के पीछे दिखाना
3.  सीड ड्रिल के साथ बुवाई 
4.  डिब्लिंग
5. प्रत्यारोपण 
  
बुवाई का समय 

  • सिंचित समय पर दिखाना : नवंबर का दूसरा सप्ताह
  • सिंचित देर से दिखाना : 15 दिसम्बर
  • बारानी समय पर दिखाना :15 अक्टूबर से 15 नवंबर.
  • बारानी देर से दिखाना :15 नवंबर से 15 अक्टूबर.
  • बुवाई की गहराई: बौना गेहूँ 5 से 6 cm गहराई पर ही दिखाना चाहिए।
  • पंक्ति से पंक्ति की दूरी : 5cm 
  • पौधे से पौधे की दूरी : केवल डिब्लिंग विधि के मामले में बनाए रखा जा सकता है : 10-15 cm.
  • बीज दर : 100 kg/ha
  • बीज उपचार : कार्बोक्सिन 75% या कार्बेन्डाजिम 50% WP 2.5 -3.0 ग्राम प्रति किलोग्राम से उपचारित करें।
  • N:P:K = 120:60:40 kg/ha
  • साथ ही बुवाई से पांच से छह सप्ताह पहले प्रति हेक्टेयर 2-3 टन गोबर की खाद डालें।

सिंचाई प्रबंधन

  • सिंचाई की अधिकतम संख्या 6
  • क्राउन रूट की शुरुआत : 20-25 दिन.
  • जुताई की अवस्था : 40-45 दिन.
  • देर से जुड़ने की अवस्था : 60-65 दिन.
  • फूल आने की अवस्था : 80-95 दिन.
  • दूध देने की अवस्था : 110-115 दिन.
  • अनाज भरने की अवस्था / सूखा अवस्था : 120-125 दिन. 
  • क्राउन रूट सबसे महत्वपूर्ण चरण है जिसमें सिंचाई की आवश्यकता होती है
  • गेहूँ के लिए आवश्यक कुल पानी 45 से 65 cm. 

खरपतवार प्रबंधन 

  • गेहूँ की फसल का सबसे महत्वपूर्ण खरपतवार है
  • Convolvulus arvensis, (आपत्तिजनक खरपतवार) 
  • फेलिस माइनर, Avena Fatua और chenopodium एल्बम (एसोसिएटेड वीड).
  • सोरघम हेलपेंस (भयानक खरपतवार).
  • फलारिस माइनर और अवेना फतुआ भी है सैटेलाइट वीड .
  • गेहूं खरपतवार के लिए उपयोग किए जाने वाले अधिकांश आम हर्बिसाइड्स व्यापक स्तर के खरपतवार के लिए 2-4D 

कटाई और उपज

  • कटाई  :  फसल की कटाई तब की जाती है जब अनाज सख्त हो जाता है और पुआल सूख जाता है।
  • कटाई के समय गेहूं के दाने में नमी की मात्रा : 20 - 25%

भंडारण

  • भंडारण के दौरान गेहूं के दानों में नमी की मात्रा 12%
  • थ्रेसिंग : थ्रेसिंग मशीन द्वारा थ्रेसिंग की जाती है।

उपज : 40 - 45 q/ha 

लागत और मुनाफा

  • गेहूं की खेती में लागत
  • जुताई 3000 से 3500 रु
  • बीज की लागत 2500 से 3000रु
  • खाद 2700 से 3200  रु
  • प्लांट प्रोटेक्शन में खर्च 1300से 1500रु
  • मजदरो में खर्च बुवाई से कटाई तक 4000 से 4500 रु
  • सिंचाई में खर्च 2000 से 2500 रु 
  • मशीनरी चार्ज या थ्रेशिंग चार्ज 2000 से 2500 रु 
  • इस प्रकार गेहूं में लगभग 16500 से 21700  रु /एकड़. तक लागत लग जाती है जिससे  16 से 20 क्विंटल / एकड़ तक गेहूं की पैदावार ले सकते है अर्थात फसल का कुल मूल्य  30000  से  35000 रु तक  आसानी से प्राप्त कर सकता है।