Social Share:
मोती पालन की कला सिखकर कर सकते है अच्छी कमाई
मोती पालन की कला सिखकर कर सकते है अच्छी कमाई

मोती को मून स्टोन (हीरे के बाद दूसरा कीमती रत्न) के रूप में जाना जाता है, जो कि मसल्स नामक एक जीवित जीव द्वारा निर्मित होता है। मसल्स गांव की लगभग हर नदी, तालाब, नहर में मिलते हैं। लेकिन आज भी इस वैज्ञानिक दुनिया में लोग यह भी नहीं जानते हैं कि मोती की खेती गांव के पानी में उपलब्ध मसल्स में की जा सकती है क्योंकि जब हम मोती कहते हैं तो विचार समुद्र का ही आता है। हम गेहूं, चावल, कपास, दालें उगाते हैं लेकिन हम मोती की खेती की कल्पना भी नहीं करते हैं। मोती अपनी सुंदरता और चमक से न केवल युवाओं को बल्कि बूढ़ों को भी आकर्षित करता है। भारत में हर साल 30 करोड़ रुपये का मोती चीन और जापान से आयात किया जाता है जबकि हमारे देश में मोती की खेती के सभी स्रोत उपलब्ध हैं।

जानिए मोती की खेती के बारे में
मोती की खेती के लिए सबसे अनुकूल मौसम शरद ऋतु का समय माना जाता है यानी अक्टूबर से दिसंबर तक। मोतियों की खेती कम से कम 10 x 10 फीट या उससे बड़े आकार के तालाब में की जा सकती है। मोती पालन के लिए 0.4 हेक्टेयर जैसे छोटे तालाब में अधिकतम 25000 सीपों से मोती का उत्पादन किया जा सकता है। खेती शुरू करने के लिए किसान को पहले तालाबों, नदियों आदि से सीपों को इकट्ठा करना होता है या उन्हें खरीदा भी जा सकता है। इसके बाद प्रत्येक सीप में एक छोटे से शल्य क्रिया के बाद उसके अंदर 4 से 6 मिमी व्यास की साधारण या डिजाइन की हुई माला जैसे गणेश, बुद्ध, पुष्प आकृति आदि डाली जाती हैं। फिर सीप बंद कर दिया जाता है। इन सीपों को नॉयलॉन की थैलियों में 10 दिनों तक एंटीबायोटिक और प्राकृतिक आहार पर रखा जाता है। इनका प्रतिदिन निरीक्षण किया जाता है और मृत सीपों को हटा दिया जाता है। अब इन सीपों को तालाबों में फेंक दिया जाता है। इसके लिए, उन्हें बांस या पीवीसी पाइप से लटकाए गए नायलॉन बैग (प्रति बैग दो सीप) में रखा जाता है और एक मीटर की गहराई पर तालाब में छोड़ा जाता है। इन्हें 20 हजार से 30 हजार सीप प्रति हेक्टेयर की दर से पाला जा सकता है। अंदर से निकलने वाला पदार्थ केंद्रक के चारों ओर बसने लगता है जो अंततः मोती का रूप धारण कर लेता है। लगभग 8-10 महीने के बाद सीप को काट कर मोती निकाल दिया जाता है।

लागत कम फायदा ज्यादा
एक सीप की कीमत करीब 8 से 12 रुपये होती है। बाजार में 1 एमएम से 20 एमएम के सीप मोती की कीमत 300 रुपये से लेकर 1500 रुपये तक है। आजकल डिजाइनर मोती काफी पसंद किए जा रहे हैं, जिनकी बाजार में अच्छी कीमत मिल जाती है। भारतीय बाजार की तुलना में विदेशी बाजार में मोतियों का निर्यात करके बहुत अच्छा पैसा कमाया जा सकता है। और सीप से मोती निकालने के बाद सीप को भी बाजार में बेचा जा सकता है। कई सजावटी सामान सीपों द्वारा तैयार किए जाते हैं। जैसे कि छत के झूमर, आकर्षक झालरें, गुलदस्ते आदि। वर्तमान में कन्नौज में सीपों से इत्र का तेल निकालने का कार्य भी बड़े पैमाने पर किया जाता है। जिससे कस्तूरी भी तुरंत स्थानीय बाजार में बेची जा सकती है। सीप नदियों और तालाबों के पानी को भी शुद्ध करते हैं, जिससे जल प्रदूषण की समस्या से काफी हद तक निपटा जा सकता है।

मोती की खेती से होने वाले लाभ
मोती की खेती एक ऐसा व्यवसाय है जो आपको अन्य लोगों से अलग करता है। वही लोग इस व्यवसाय को कर सकते हैं। जिन्हें कुछ अलग करने का विचार आता है।

  • एक एकड़ पारंपरिक खेती से 50000/- और मोती की खेती से 8-10 लाख का लाभ प्राप्त कर सकता है।
  • तालाब में बहुउद्देशीय योजनाओं का लाभ उठाकर 8-10 प्रकार के व्यवसाय कर आय में वृद्धि।
  • जमीन में जल स्तर बढ़ाकर सरकार की मदद।
  • बचे हुए माल से हस्तशिल्प उद्योग को बढ़ावा देना।
  • यदि इस व्यवसाय में महिला वर्ग आता है तो अधिक लाभ होता है क्योंकि मोती के आभूषणों के साथ-साथ मदर ऑफ पर्ल (शेल ज्वैलरी) का भी लाभ उठा सकते हैं।