Social Share:
सफल कहानी: 105 साल की किसान पद्मश्री पप्पाम्मल की कहानी
सफल कहानी: 105 साल की किसान पद्मश्री पप्पाम्मल की कहानी

अपने मन में किसान की छवि के बारे में सोचें। कहीं धूप में फावड़ा चलाना, कहीं मेहनत करना, कहीं पसीने से लथपथ। आपको किसकी छवि मिली? जिसने तुम्हें दिखाया तुमने एक दुबले-पतले आदमी को देखा होगा जो बहुत मेहनत कर रहा है। उसने अपने सिर पर दुपट्टा लपेटा होगा, जिसकी उम्र लगभग पचास से साठ साल होगी। दरअसल, काफी सही सोचा लेकिन इसमें कुछ बदलाव जरूर है। पहले 100 से ऊपर की उम्र लगाओ। अब उस आदमी को औरत बना दो। एक काम करो, नाम भी रख लो, उस महिला किसान के लिए उसका नाम पद्मश्री पप्पाम्मल है। पप्पाम्मल को देश का सबसे पुराना किसान माना जाता है। उनकी उम्र 105 साल है। वह रासायनिक खेती नहीं करती, बल्कि स्वयं खाद बनाकर जैविक खेती करती हैं। वह सुबह चार बजे उठती है, साढ़े पांच बजे तक तैयार हो जाती है और अपने खेत में पहुंच जाती है। फिर पूरा दिन अपने खेतों को फसलों के लिए समर्पित कर देती है। उनकी उम्र को उनकी मेहनत का पैमाना न समझें। वह एक बुजुर्ग है, लेकिन वह अभी भी पूरी हिम्मत और लगन के साथ खेती में सक्रिय है।

पप्पाम्मल का जन्म देश की आजादी से करीब 33 साल पहले हुआ था। वर्ष 1914 में देवलपुरम, कोयंबटूर, तमिलनाडु में। देश आजाद नहीं था। यह पिछड़ेपन का दौर था। शिक्षा और लेखन की कोई विशेष व्यवस्था नहीं थी। इसलिए पप्पाम्मल कभी स्कूल नहीं गई। उन्होंने जो कुछ भी गुणा-भाग या गिनती सीखी, वह खेल के माध्यम से सीखा। वह बहुत छोटी थी जब उसके माता-पिता का देहांत हो गया। पप्पम्मल को देवलपुरम छोड़ना पड़ा। वह अपनी दादी के घर थेक्कमपट्टी आई थी। यहां उन्होंने घर की दुकान को संभाला। उन्होंने अपनी दो बहनों की भी देखभाल की। वह उस समय भी बहुत मेहनती थी। दुकान से आमदनी बचाकर 30 साल की उम्र में गांव में ही दस एकड़ जमीन खरीद ली। तब से वह कृषि में सक्रिय है। अपने बचपन को याद करते हुए उन्होंने द वायर को बताया, “हमें आराम करने या खेलने के लिए मुश्किल से ही समय मिलता था। हम लड़कियों को जुताई, बुवाई, सिंचाई, कटाई और फिर भूसी की कटाई जैसे सारे काम करने पड़ते थे। उन्होंने यह भी कहा कि शादी के बाद जिम्मेदारियां दोगुनी हो जाती हैं। उसे घर के बाहर भी काम करना पड़ता था। महिलाओं को ऐसा जीवन सहना पड़ता है। उनके पास और कोई विकल्प कहां है? वे शायद ही कभी- कभार 'अच्छा खाना' खाते हैं। त्योहारों के दौरान यहां चावल खाया जाता है। यह ही अच्छा होता है।

पप्पाम्मल की शादी हो गई लेकिन उसकी कोई संतान नहीं थी इसलिए उसने अपनी बहन की शादी अपने पति से करा दी। अब वह अपनी बहन के बच्चों की देखभाल करती है। पप्पाम्मल 2.5 एकड़ में खेती और जैविक खेती करते हैं। उनके फॉर्म से दो किलोमीटर दूर भवानी नदी बहती है। वह दालें, सब्जियां, बाजरा और रागी की खेती करती हैं। उन्होंने पिछले कुछ सालों से केले की खेती भी शुरू कर दी है। इतना ही नहीं पप्पाम्मल खेती के साथ-साथ थेक्कमपट्टी में ही एक दुकान भी चलाती हैं। यहां वह अपने खेत में उगाए गए जैविक उत्पाद बेचती हैं। कृषि के बारे में उनकी समझ यूं ही नहीं हो गई। ये बदलाव साल 1983 से आने लगे थे। वह कोयंबटूर जिले में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के कृषि विज्ञान केंद्र (KVK) में शामिल हुईं। यह अविनाशीलिंगम महिला गृह विज्ञान संस्थान के तत्वावधान में संचालित किया गया था। यहां उन्होंने जैविक खेती और खेती की बारीकियों के बारे में जाना। कहा जा सकता है कि उन्होंने लैब के काम को धरातल पर साबित कर दिया। ऑन-फील्ड प्रशिक्षण ने उन्हें खेती की छोटी-छोटी बारीकियाँ सिखाईं। बुनियादी प्रशिक्षण लेने के बाद, वह केवीके की स्थानीय प्रबंधन समिति में नेता बन गईं। उन्होंने नेता बनकर गांव की अन्य महिलाओं को खेती से जोड़ा। 

कुछ समय बाद, स्थानीय प्रबंधन समिति वैज्ञानिक सलाहकार समिति (SAC) बन गई। पप्पाम्मल इसकी सदस्य थी। वह लड़की जो कभी स्कूल नहीं गई थी अब वैज्ञानिक सलाहकार समिति की सदस्य थी। वह कई सेमिनारों और सम्मेलनों में भाग लेती है। यहां वह किसानों और आम लोगों को जैविक खेती की तकनीकों और लाभों के बारे में बताती हैं। उन्होंने तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय के साथ भी मिलकर काम किया। वह विश्वविद्यालय की ओर से कई दौरे भी करती हैं। छात्रों को जैविक खेती के बारे में बताया। ' ‘विलेज स्टे प्रोग्राम’ के तहत बच्चे उनके फॉर्म में भी आते हैं। द हिंदू से बात करते हुए, वह बताती हैं कि उन्होंने जैविक खेती को क्यों चुना। वह कहती हैं, "उर्वरक और कीटनाशकों को लेकर मेरी अपनी नापसंद और डर है। जब कृषि में रसायनों का बहुत अधिक उपयोग होने लगा, तब भी मैंने जैविक खेती जैसी प्राकृतिक पद्धति को अपनाया। मैंने उन तरीकों का पालन किया जो मैंने अपने पिता के खेत में सीखे थे। रसायनों वाली फसलें हमारी मिट्टी और हमारे ग्राहकों के लिए हानिकारक हैं। उन्होंने केवीके के तहत गांव की महिला किसानों के लिए पहला 'स्वयं सहायता समूह' भी खोला।

6 फीट लंबी, मजबूत आवाज और मजबूत इरादों वाली पप्पाम्मल कॉफी या चाय नहीं पीती हैं। सिर्फ गर्म पानी ही पीती है। पौष्टिक आहार कहती हैं। वह टूथपेस्ट की जगह नीम के दांतों से अपने दांत साफ करती हैं। आज भी वह नहाने के साबुन की जगह हाथ धोने के लिए मिट्टी और राख का इस्तेमाल करती हैं। पप्पाम्मल न केवल कृषि में बल्कि राजनीति में भी बहुत सक्रिय रहे हैं। वह वर्ष 1959 में थेक्कमपट्टी पंचायत की वार्ड सदस्य थीं। वह करमदई पंचायत संघ में पार्षद थीं। द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के सदस्य और एम. करुणानिधि पप्पम्मल के प्रशंसक को लगता है कि सिर्फ एक किसान के लिए जैविक खेती करना मुश्किल है। इससे फसल को तैयार करना और बेचना मुश्किल हो जाता है। किसान एकजुट होकर जैविक खेती करें। इससे लागत कम होगी और खेती के लिए अच्छी कीमत मिलेगी। ऑक्सफैम इंडिया की 2013 की रिपोर्ट बताती है कि भारत में कृषि क्षेत्र का 80 फीसदी काम महिलाएं करती हैं जबकि केवल 13 फीसदी महिलाएं ही जमीन के मालिक हैं। ग्रामीण भारत में 60 से 80 प्रतिशत फसल का उत्पादन महिलाओं द्वारा किया जाता है और अन्य कृषि कार्य महिलाओं द्वारा किया जाता है। इन महिलाओं को हमारे देश में न तो किसान माना जाता है और न ही किसानों को मिलने वाला लाभ मिलता है। इस पितृसत्तात्मक मानसिकता के बीच, पप्पाम्मल महिलाओं का प्रतिनिधित्व करना जारी रखती है। वह ग्रामीणों में जागरूकता भी फैला रही है।