kisan

Sugar Beets (चुकंदर)

Basic Info

चुकन्दर एक जड़ वाली सब्जियों में महत्वपूर्ण स्थान रखती है। इसकी जड़ों को सब्जी व सलाद के रूप में अधिक प्रयोग करते हैं। गन्ने के बाद दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी और मीठी फसल चकुंदर है।इसके सेवन से शरीर में रक्त की कमी दूर होती है। चुकंदर में 8 से 15 प्रतिशत चीनी, 1.3 से 1.8 प्रतिशत प्रोटीन, 3 से 5 प्रतिशत मैग्नीशियम, कैल्सियम, पोटेशियम, फास्फोरस, आयोडीन, आयरन, मैगनीज, विटामिन सी, बी- 1, बी- 2 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। विश्व में आजकल प्रत्येक वर्ष लगभग 142 मिलियन टन चीनी बनाई जाती है। कुल उत्पादित चीनी की लगभग 24 प्रतिशत चीनी, चुकंदर से बनाई जाती है।

Seed Specification

प्रसिद्ध किस्में
अब तक खेती के लिए इसकी चार किस्में अनुमोदित की गई हैं । ये हैं – रोमोन्सकाया, मेरीबी मैग्नापीली, मेरीबो रैजिस्टापोली और इरो टाईप-ई। विभिन्न क्षेत्रों में किये गये परीक्षणों में इन किस्मों में कोई विशेष अंतर नहीं पाया गया। इन किस्मों में कोई विशेष अंतर न होने के कारण अब देश में अधिकतर रोमोन्सकाया का ही उत्पादन होता है।

बुवाई का समय
उष्णकटिबंधीय बीट को सितंबर से नवंबर में बोया जाता है और मार्च और मई के दौरान काटा जाता है।

दुरी 
बुवाई के लिए लाइनों से लाइनों की दूरी 45-50 सेंटीमीटर रखें। पौधे से पौधे की 15-20 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

बुवाई के लिए गहराई
बीज की 25 सेंटीमीटर गहराई पर बुवाई करें।

बुवाई का तरीका
बुवाई के लिए गड्ढा खोद कर और हाथ से छिड़काव करने के तरीके का प्रयोग करें।

बीज की मात्रा
3-4 किग्रा/प्रति एकड़। 

बीज का उपचार
चुकंदर बीज उपचार निम्नानुसार किया जाता है:- सभी बीट बीज को कम से कम 2 घंटे तक बहते पानी में धोया जाना चाहिए। धोने के बाद इसे बोने से पहले कमरे के तापमान पर कम से कम एक दिन के लिए सुखाया जाना चाहिए। यदि आप बीज कंपनी या पड़ोसी से बीज खरीद रहे हैं, तो उनसे पूछें कि क्या इसका इलाज किया गया है।

Land Preparation & Soil Health

अनुकूल जलवायु
चुकंदर की खेती सामान्यतः उन सभी स्थानों पर सफलतापूर्वक की जा सकती है, जहां सर्दियों में अधिकतम तापमान लगभग 20०C रहता हो और गर्मी काफी देर से पडती हो उत्तर भारत में सर्दी के मौसम में यह भली-भाँति उगाया जा सकता है। पहाडी क्षेत्रों के लिए यह एक उपयुक्त फसल साबित हो सकती है।

भूमि
चुकंदर की खेती लगभग सभी प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है। लेकिन अच्छे जल निकास वाली बलुई दोमट मिट्टी इसकी खेती के लिए सर्वोत्तम है। चुकंदर लवणीय मिट्टी में आसानी से हो सकती है और क्षारीय मिट्टी (9.5 पी एच) में भी इसकी खेती की जा सकती है।

खेत की तैयारी
चुकंदर की अच्छी फसल के लिए खेत की तैयारी सही तरीके से करनी चाहिए। यदि भूमि रेतीली है तो 2 से 3 जुताई करें, यदि मिट्टी चिकनी है, तो पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करें तथा अन्य 3 से 4 जुताई करके पाटा चलाऐं तथा मिट्टी को बिल्कुल भुरभुरी कर लें। खेत में छोटी-छोटी क्यारियां बनायें या 5 इंच ऊँचा व 2 फीट चौड़ा बेड बना लें, बेड पर बीज की सीधी बुवाई करें।

Crop Spray & fertilizer Specification

खाद एवं रासायनिक उर्वरक
एक हेक्टेयर फसल के लिए 120-150 कि.ग्रा. नाइट्रोजन की आवश्यकता होती है। फास्फोरस एवं पोटाश की मात्रा मिट्टी की जाँच के अनुसार निर्धारित करनी चाहिए। खाद 20 टन / हेक्टेयर लगायें। N: P₂O₅: K₂O 75:37.5:37.5 कि.ग्रा./हेक्टेयर सिफारिश करें। नाइट्रोजन की शेष आधी खुराक को टॉपड्रेसिंग के रूप में लागू किया जाता है जब फसल संयंत्र सख्ती से बढ़ने लगता है।
इसके बाद नाइट्रोजन देने से फसल की हानि होने की सम्भावना रहती है। नाइट्रोजन को किसी भी स्रोत जैसे अमोनियम सल्फेट, कैल्शियम अमोनियम नाइट्रेट या यूरिया के रूप में दिया जा सकता है। इसके अलावा जिंक सल्फेट भी मिट्टी की जांच के अनुसार डालना लाभदायक है।

हानिकारक रोग
भारत में अब तक जो बीमारियाँ इस फसल पर देखी गई हैं उनमें मूल सडन बीमारी मुख्य है। यह एक फफूँदी स्केलेरोशीयम सैल्पसाई द्वारा होती है। बीमारी का प्रकोप फरवरी के अंत या मार्च में जब तापमान बढने लगता है तब होता है। जडों पर फफूँदी के प्रकोप से पत्तियाँ मुरझाने लगती हैं और जल्दी ही पौधे मर जाते है। ऐसे पौधों को उखाडने पर उनकी जडों पर चारों ओर फफूँदी लगी होती है। इस रोग को रोकने के लिए 15 कि.ग्रा. प्रति हैक्टर ब्रैसीकाल का प्रयोग करना चाहिए। फरवरी के माह में इसका घोल बनाकर जड़ों के चारों ओर डालना चाहिए जिससे कि जडों के चारों ओर की मिट्टी इस घोल से भीग जाये।

हानिकारक कीट
इस फसल पर कई कीट देखे गये हैं परंतु उनसे कितनी हानि होती है अभी तक ठीक से पता नहीं है। मुख्य रूप से हानि ग्रीसी कटवर्म, बिहार रोमिल सूँडी और तम्बाकू सूँडी से होती है।

Weeding & Irrigation

खरपतवार नियंत्रण
खरपतवार की रोकथाम के लिए 25-30 दिन बाद एक निराई गुड़ाई कर लेनी चाहिए और पौधों की सघनता ज्यादा होने पर फालतू पौधें उखाड़ दें। एक स्थान पर एक ही पौधा ही रखें। अंकुरण से पहले खरपतवार नियंत्रण के लिए पेंडिमेथालीन 38.7% सी.एस. 700 मिली/एकड़ की दर से 200 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव कर देना चाहिए।

सिंचाई
फसल में दी जाने वाली सिंचाइयों की संख्या मृदा की किस्म पर काफी हद तक निर्भर करती है। यह आवश्यक है कि पौधों की एक समान बीज अंकुरण और वृद्धि में मदद करने के लिए पर्याप्त मिट्टी की नमी उपलब्ध हो। अच्छे अंकुरण को सुनिश्चित करने के लिए बीज बुवाई के तुरंत बाद हल्की सिंचाई करें। फसल को गर्मियों में 4-5 दिन और सर्दियों में 10-12 दिनों के अंतराल पर सिंचाई करनी चाहिए।

Harvesting & Storage

फसल अवधि
चुकंदर की फसल बुवाई के 60-75 दिनों के भीतर तैयार हो जाती है, जब जड़ें 3-5 सेमी व्यास प्राप्त कर लेती हैं।

उत्पादन क्षमता
चुकंदर का औसत उत्पादन 20-25 टन / हेक्टेयर है।

कटाई का समय
चुकंदर की फसल बुवाई के 60-75 दिनों के भीतर कटाई के लिए तैयार हो जाती है जब जड़ें 3-5 सेमी का व्यास प्राप्त कर लेती हैं। जड़ों के भीतर स्पंजी ऊतक के विकास से पहले जड़ों को काटा जाता है। आमतौर पर पौधों को हाथों से खींचा जाता है और शीर्ष की पतियों को हटा दी जाती हैं। फल को काम में लिया जाता है।


Crop Related Disease

Description:
जब परिस्थितियां अनुकूल होती हैं, तो कवक चुकंदर की जड़ों में प्रवेश करता है और संवहनी तंत्र पर आक्रमण करता है, जहां यह विषाक्त पदार्थों का उत्पादन करता है जो पौधे में ऊपर की ओर ले जाया जाता है, जिससे पर्ण लक्षण पैदा होते हैं। कवक एक "प्लग" के रूप में भी कार्य करता है जो संवहनी ऊतक को रोकता है और बाद में, गलने का कारण बनता है। यह रोग उच्च मिट्टी के तापमान के अनुकूल है - 75 एफ से ऊपर। लक्षण आमतौर पर बढ़ते मौसम में जल्दी प्रकट नहीं होते हैं। जिन खेतों में जलभराव होता है या जिनकी मिट्टी की संरचना खराब होती है, वे संक्रमण के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ प्रदान करते हैं। कवक मिट्टी में कई वर्षों तक जीवित रहता है।
Organic Solution:
जैसे ही पहला लक्षण दिखाई दे, उस संक्रमित पौधे को हटा दें। संक्रमण की शुरुआत में ही रोग को नियंत्रित करने के लिए नीम के तेल का छिड़काव करें।
Chemical Solution:
कार्बेन्डाजिम के उपयोग के बाद कार्बोक्सिन, प्रोपिकोनाज़ोल और मैन्कोज़ेब। अलग-अलग कवक विषाक्त पदार्थों द्वारा कृत्रिम रूप से निष्क्रिय मिट्टी की खुदाई से पता चला है कि कार्बेन्डाजिम 28.42 प्रतिशत विल्ट की घटना के साथ प्रभावी था और अगले प्रभावकारी कवक विषाक्त पदार्थ मैन्कोजेब और मेफेनोक्साम + मैनजैब थे। अकेले कार्बेन्डाजिम (3 ग्राम किलो -1 बीज) और मैन्कोज़ेब और कैप्टान के साथ 1.5 + 1.5 किलो -1 बीज के संयोजन को विल्ट के साथ सबसे अच्छा बीज ड्रेसिंग साबित हुआ।

Sugar Beets (चुकंदर) Crop Types

You may also like

No video Found!

Frequently Asked Questions

Q1: क्या चुकंदर लाभदायक है?

Ans:

आप जानते है अधिकांश वर्षों में किसान चुकंदर पर प्रति एकड़ सैकड़ों रुपयें का लाभ कमाते हैं। चुकंदर को बोने और काटने की लागत मक्का, सोयाबीन या गेहूं की तुलना में बहुत अधिक है। लेकिन संभावित कमाई भी ऐतिहासिक रूप से बहुत अधिक है। अतीत में कई किसानों ने कहा है कि 'चुकंदर सिर्फ बिलों का भुगतान करते हैं।

Q3: चुकंदर शुगर के मरीजों के लिए किस प्रकार से फायदेमंद है?

Ans:

आप जानते है चुकंदर एंटीऑक्सिडेंट और पोषक तत्वों से भरपूर होता है जो सभी के लिए स्वास्थ्य लाभदायक साबित हुआ है। मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए चुकंदर का सेवन विशेष रूप से फायदेमंद होता है। तंत्रिका क्षति और नेत्र क्षति सहित आम मधुमेह जटिलताओं के जोखिम को कम करता है।

Q5: चुकंदर की खेती के लिए कौन सा समय उपयुक्त होता है ?

Ans:

उष्णकटिबंधीय चुकंदर को सितंबर से नवंबर में बोया जाता है और मार्च और मई के दौरान काटा जाता है।

Q2: विश्व में चुकंदर का सबसे बड़ा उत्पादक देश कौन सा हैं?

Ans:

आप जानते है ब्राजील विश्व स्तर पर चुकंदर का सबसे बड़ा उत्पादक है।

Q4: चुकंदर के लिए कौन सी जलवायु उपयुक्त होती है?

Ans:

चुकंदर की खेती के लिए ठंडी जलवायु वाले प्रदेश उपयुक्त होते हैं। सर्दी में मौसम में इसके पौधे अच्छे से विकास करते हैं। लेकिन अधिक तेज़ ठंड और पाला इसकी पैदावार को प्रभावित करता है। इसकी खेती के लिए बारिश की ज्यादा जरूरत नही होती है।

Q6: चुकंदर की फसल की खेती क्यों की जाती है?

Ans:

चुकंदर, (बीटा वल्गरिस), ऐमारैंथ परिवार (ऐमारैंथेसी) के चुकंदर का रूप, चीनी के स्रोत के रूप में उगाया जाता है। चुकंदर के रस में सुक्रोज का उच्च स्तर होता है और यह दुनिया के चीनी के प्रमुख स्रोत के रूप में गन्ने के बाद दूसरे स्थान पर है।