kisan

Tomato (टमाटर)

Basic Info

 टमाटर (Tomato) की उत्पत्ति सबसे पहले दक्षिण अमेरिका के पेरू में हुई है। यह भारत की महत्वपूर्ण व्यावसायिक सब्जी फसल बन गयी है। यह आलू के बाद दुनिया की दूसरी सबसे महत्वपूर्ण फसल है। टमाटर के फल कच्चे या पके हुए रूप में खाए जाते हैं। यह विटामिन ए, सी, पोटेशियम और खनिजों का समृद्ध स्रोत है। इसका उपयोग सूप, जूस और केच अप, पाउडर में किया जाता है। प्रमुख टमाटर उत्पादक राज्य बिहार, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, उड़ीसा, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल हैं। भारत के हर राज्य में बोई जाने वाली फसल है।

Seed Specification

टमाटर की किस्में
देसी किस्म - पूसा रूबी, पूसा-120, पूसा शीतल, पूसा गौरव, अर्का सौरभ, अर्का विकास, सोनाली
संकर किस्म - पूसा हाइब्रिड-1, पूसा हाइब्रिड -2, पूसा हाइब्रिड-4, अविनाश-2, रश्मि तथा निजी क्षेत्र से शक्तिमान, रेड गोल्ड, 501, 2535 उत्सव, अविनाश, चमत्कार, यू.एस.440 आदि।

नर्सरी प्रबंधन
टमाटर के बीजों को सीधे खेत में न बोते हुए पहले नर्सरी में बोया जाता है, जब पौधे 4 से 5 सप्ताह अर्थात 10 से 15 सेंटीमीटर के हो जाएँ तब इन्हें खेत में प्रतिरोपित करते हैं। नर्सरी तैयार करना टमाटर नर्सरी के लिए 10 से 15 सेंटीमीटर उठी हुई क्यारियाँ बनानी चाहिये ताकि क्यारी में आवश्यकता से अधिक पानी न रूके। क्यारियाँ किसी भी दशा में 90 से 100 सेंटीमीटर (एक गज या एक मीटर) से अधिक चौड़ी न हों अन्यथा निराई-गुड़ाई, बीज बुआई या सिंचाई करने में असुविधा हो सकती है। नर्सरी में 4 सेमी की गहराई पर बीज बोएं और फिर मिट्टी से ढक दें। 
टमाटर के पौधों की लम्बाई 5 मीटर होनी चाहिये, एक एकड़ के लिए ऐसी 25 क्यारियों की आवश्यकता होती है। बीजों की बुवाई के पूर्व 8 से 10 ग्राम कार्बोफुरान 3 जी प्रति वर्गमीटर के हिसाब से जमीन में मिलावें और 2 ग्राम केप्टान प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से उपचारित कर बुवाई करें। बीजों को 5 से 7 सें.मी फासले पर कतारों में बोया जाता है। जैसे ही बीजों का अंकुरण हो कैप्टान के 0.2 प्रतिशत घोल से क्यारियों का उपचार करें, नर्सरी में पौधों की फव्वारे से सिंचाई करें।

बुवाई का समय
इसकी खेती उत्तरी राज्य के लिए, वसंत के मौसम के लिए टमाटर की खेती नवंबर के अंत में की जाती है और जनवरी के दूसरे पखवाड़े में रोपाई की जाती है। शरद ऋतु की फसल के लिए, बुवाई जुलाई - अगस्त में की जाती है और अगस्त - सितंबर में रोपाई की जाती है। पहाड़ी क्षेत्रों में मार्च-अप्रैल में बुवाई की जाती है और अप्रैल-मई में रोपाई की जाती है।

बीज की मात्रा
एक एकड़ भूमि में बुवाई के लिए अंकुर तैयार करने के लिए 100 ग्राम बीज दर का उपयोग करें।

बीज का उपचार
फसल को मृदा जनित रोग और कीट से बचाने के लिए, बुवाई से पहले बीज का उपचार थायरम 3 ग्राम या कार्बेन्डाजिम 3 ग्राम बीज के साथ करें। रासायनिक उपचार के बाद बीज को ट्राइकोडर्मा 5 ग्राम / किलोग्राम बीज से उपचारित करें। इसको छाव में रखें और इसे बुवाई के लिए उपयोग करें।

Land Preparation & Soil Health

मिट्टी
टमाटर को विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है जिसमें रेतीली दोमट से लेकर काली मिट्टी और उचित जल निकासी वाली लाल मिट्टी होती है। उच्च कार्बनिक सामग्री के साथ अच्छी तरह से सूखा रेतीली मिट्टी के नीचे उगाए जाने पर यह सबसे अच्छा परिणाम देता है। अच्छी वृद्धि के लिए मिट्टी का पीएच मान 7 से 8.5 होना चाहिए। यह मध्यम अम्लीय और लवणीय मिट्टी को सहन कर सकता है। शुरुआती फसलों के लिए हल्की मिट्टी फायदेमंद होती है जहां भारी पैदावार के लिए दोमट मिट्टी उपयोगी होती है।

भूमि का तैयारी
टमाटर के रोपण के लिए अच्छी तरह से चूर्णित और समतल मिट्टी की आवश्यकता होती है। मिट्टी को बारीक करने के लिए, 4-5 बार के लिए भूमि की जुताई करें, फिर मिट्टी के स्तर को बनाने के लिए प्लैंकिंग की जाती है। अंतिम जुताई के समय अच्छी तरह से विघटित गोबर और कार्बोफ्यूरॉन 5 किग्रा या नीम केक 8 किग्रा प्रति एकड़ की दर से डालना चाहिए।

Crop Spray & fertilizer Specification

खाद एवं रासायनिक उर्वरक
टमाटर की खेती के लिए खेत की तैयारी के समय अच्छी तैयार की हुई गोबर की खाद 10 टन प्रति एकड़ डालें और मिट्टी में अच्छी तरह मिला दें। नाइट्रोजन 60 किलो , फासफोरस 25 किलो और पोटाश 25 किलो की मात्रा प्रति एकड़ में प्रयोग करें। तथा अन्य उर्वरक और पोषकतत्व मिट्टी परिक्षण के आधार पर ही प्रयोग करें।

प्रमुख कीट एवं रोकथाम:
कीट सफेद मक्खी (व्हाइट फ्लाई) - इस कीट के शिशु व वयस्क दोनों ही पत्तों से रस चूसते हैं। इनके द्वारा बनाये गए मधु बिन्दु पर काली फंफूद आ जाती है, जिससे पौधे का प्रकाश संश्लेषण कम हो जाता है। यह कीट वायरस जनित ‘पत्ती मरोड़क’ बीमारी भी फैलाता है।
रोकथाम - रोपाई से पहले पौधों की जड़ों को आधे घंटे के लिए इमिडाक्लोप्रिड 1 मि.ली प्रति 3 लीटर के घोल में डुबोएं।
- नर्सरी को 40 मैश की नाइलोन नेट से ढक कर रखें।
- नीम बीज अर्क (4 प्रतिशत) या डाइमेथोएट 30 ई सी, 2 मिलीलीटर प्रति लीटर या मिथाइल डेमिटोन 30 ई सी, 2 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी का छिड़काव करें।
टमाटर फल छेदक (होलीयोथिस) - इस कीट की सुंडियां फलों में छेदकर इनके पदार्थ को खाती हैं, और आधी फल से बाहर लटकती नजर आती हैं। एक सुंडी कई फलों को नुकसान पहुंचाती है। इसके अतिरिक्त ये पत्तों को भी हानि पहुंचाती हैं।
रोकथाम - टमाटर की प्रति 16 पंक्तियों पर ट्रैप फसल के रूप में एक पंक्ति गेंदा की लगाएं।
- सुंडियों वाले फलों को इकट्ठा कर नष्ट कर दें।
- इस कीड़े की निगरानी के लिए 5 फेरोमोन ट्रैप प्रति हेक्टेयर लगाएं।
जरूरत पड़ने पर नीम बीज अर्क (5 प्रतिशत) या एन पी वी 250 एल इ प्रति हेक्टेयर या बी टी 1 ग्राम प्रति लीटर पानी या एमामेक्टिन बेन्जोएट 5 एस जी 1 ग्राम प्रति 2 लीटर या स्पिनोसेड 45 एस सी 1 मिलीलीटर प्रति 4 लीटर या डेल्टामेथ्रिन 2 या 5 ई सी 1 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी का इस्तेमाल करें।
तम्बाकू की इल्ली (टोबैको कैटरपिल्लर, स्पोडोप्टेरा) - इस कीट की इल्लियां पौधों के पत्तों व नई कोंपलों को नुकसान पहुंचाती हैं। अधिक प्रकोप की अवस्था में पौधे पत्ती रहित हो जाते हैं। ये फलों को भी खाती हैं|
रोकथाम - इल्लियों के प्रकोप वाले पौधों को निकालकर भूमि में दबा दें।
- कीट की निगरानी के लिए 5 फेरोमोन ट्रैप प्रति हेक्टेयर लगाएं।
- बी टी 1 ग्राम प्रति लीटर या नीम बीज अर्क (5 प्रतिशत) या स्पिनोसेड 45 एस सी 1 मिलीलीटर प्रति 4 लीटर या डेल्टामेथ्रिन 1 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी का छिडकाव करें।
पत्ती सुरंगक कीट (लीफ माइनर) - इस कीट के शिशु पत्तों के हरे पदार्थ को खाकर इनमें टेढ़ी-मेढ़ी सफेद सुरंगे बना देते हैं। इससे पौधों का प्रकाश संश्लेषण कम हो जाता है। अधिक प्रकोप से पत्तियां सूख जाती हैं।
रोकथाम - ग्रसित पत्तियों को निकाल कर नष्ट कर दें।
- डाइमेथोएट 2 मिलीलीटर प्रति लीटर या इमिडाक्लोप्रिड 1 मिलीलीटर प्रति 3 लीटर या मिथाइल डेमिटोन 30 ई सी 2 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी का छिड़काव करें।
प्रमुख रोग एवं रोकथाम :
आद्र गलन (डेम्पिंग ऑफ) - यह पौधशाला की सबसे प्रमुख बीमारी है, जो संक्रमित बीज और मिट्टी से पनपता है, जिससे जमीन की सतह पर तना भूरा काला होकर गिर जाता है। अधिक रोग के कारण कभी-कभी पूरी पौध भी नष्ट हो जाती है।
रोकथाम - हमेशा उपचारित बीज ही प्रयोग करें और नयी भूमि में पौध तैयार करें।
- बीज जमाव के पश्चात 2 ग्राम कैप्टान रसायन 1 लीटर पानी में घोलकर फव्वारे से डैचिंग करें।
- यदि उक्त रसायन उपलब्ध न हो तो बाविस्टिन रसायन की 1 ग्राम मात्रा 1 लीटर पानी में घोलकर 1 सप्ताह के अन्तराल पर छिड़काव करते रहें।
- ध्यान रहे कि नर्सरी बेड उठी हुई हो तथा पौधशाला में पौध घनी गहरी न हो।
- पौधशाला में सिंचाई आवश्यकतानुसार ही करें।
अगेती झुलसा - मई से जून माह में पत्तियों में यह रोग दिखाई देता हैं, फलस्वरूप पत्तियाँ पीली पड़कर गिर जाती हैं।
रोकथाम - डाईथेन जेड- 78 का छिड़काव करें (10 लीटर पानी में 20 ग्राम दवा घोलकर)
पछेती झुलसा - यह रोग बरसात के मौसम में लगता है। इसमें पत्ती के किनारे भूरे-काले रंग के हो जाते हैं। प्रभावित फल में भूरे काले धब्बे बनते हैं, फलस्वरूप पत्तियाँ या फल गिर जाते हैं।
रोकथाम - 10 से 15 दिनों के अन्तराल पर मैन्कोजेब या रिडोमिल एम जेड का छिड़काव करें (20 ग्राम दवा 10 लीटर पानी में घोलकर)
पर्णकुंचन व मोजेक (विषाणु रोग) - पत्तियाँ नीचे की तरफ मुड़कर ऐंठ जाती हैं, रोगी पत्तियां छोटी, मोटी और खुरदरी हो जाती हैं। पत्तियों का रंग पीला पड़ जाता है, रोग के उग्र रूप धारण करने पर फूल भी नहीं बनते हैं। यह रोग सफेद मक्खियों के कारण होता है, इसलिये उनका नियंत्रण करना चाहिए।
रोकथाम - इमिडाक्लोप्रिड (100 मिलीलीटर प्रति 500 लीटर पानी) रोपाई के 3 सप्ताह बाद तथा आवश्यकतानुसार 15 दिन के अंतराल पर करें।
बकाय रॉट - हल्के और गहरे भूरे रंग के गाढ़े छल्ले फल पर दिखाई देते हैं, ये छल्ले छोटे भी हो सकते हैं या फल की सतह का एक बड़ा हिस्सा ढक सकते हैं। जिसके कारण फल सड़ जाते हैं।
रोकथाम - मेटाटाक्सिल या मेन्कोजेब 2 ग्राम प्रति लीटर पानी के साथ फल लगने पर छिडकाव करना चाहिये।

Weeding & Irrigation

खरपतवार नियंत्रण 
रासायनिक खरपतवार नियंत्रण के लिए पेंडीमेथालिन नामक खरपतवारनाशी को 3 लीटर प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करें। निराई व गुड़ाई द्वारा भी खेत में खरपतवार नियंत्रण करना संभव है। यदि खरपतवार को अनियंत्रित छोड़ दिया जाए तो इससे फसल की पैदावार 70-90% तक कम हो जाएगी। रोपाई के दो से तीन दिन बाद फ्लुक्लोरेलिन (बेसालिन) 800 मिली / 200 लीटर पानी का छिड़काव पूर्व-उभरती हुई खरपतवारनाशी के रूप में करें।

सिंचाई 
सर्दियों में 6 से 7 दिनों के अंतराल पर और गर्मियों के महीने में सिंचाई करें, मिट्टी की नमी के आधार पर 10-15 दिनों के अंतराल के बाद सिचाई करें। भारी पानी द्वारा सूखे की अवधि के बाद फलों के टूटने की संभावना होती है। फूलों की अवस्था सिंचाई के लिए महत्वपूर्ण है, इस चरण के दौरान पानी के तनाव से फूल गिर सकता है और फलने और उत्पादकता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

Harvesting & Storage

फसल कटाई
रोपाई के 70 दिनों के बाद पौधे की पैदावार शुरू हो जाती है। कटाई ताजा बाजार, लंबी दूरी के परिवहन आदि के लिए उद्देश्य के आधार पर की जाती है। परिपक्व हरे टमाटर, 1/4 वें फल वाला भाग गुलाबी रंग देता है जो लंबी दूरी के बाजारों के लिए काटा जाता है। लगभग सभी फल गुलाबी या लाल रंग में बदल जाते हैं, लेकिन ताज़ा फल स्थानीय बाजारों के लिए काटा जाता है। प्रसंस्करण और बीज निष्कर्षण उद्देश्य के लिए, नरम मांस के साथ पूरी तरह से पके फल का उपयोग किया जाता है।

भंडारण
कटाई के बाद, ग्रेडिंग की जाती है। फिर फलों को बांस की टोकरियों या टोकरे या लकड़ी के बक्से में पैक किया जाता है। लंबी दूरी के परिवहन के दौरान टमाटर का स्व-जीवन बढ़ाने के लिए पूर्व-शीतलन किया जाता है। पके टमाटर से लेकर प्यूरी, शरबत, जूस और केच अप जैसे कई उत्पाद प्रसंस्करण के बाद बनाए जाते हैं।


Crop Related Disease

Description:
कुछ दिनों के लिए 24 डिग्री सेल्सियस से नीचे उच्च आर्द्रता, उच्च मिट्टी की नमी, बादल और कम तापमान संक्रमण और बीमारी के विकास के लिए आदर्श होते हैं। भीड़भाड़ वाले अंकुर, उच्च वर्षा के कारण नमी, खराब जल निकासी और मिट्टी के विलेय की अधिकता से पौधे की वृद्धि बाधित होती है और रोगजनक भिगोना बंद हो जाता है। कवक पाइथियम और राइज़ोक्टोनिया टमाटर के अंकुर को डंप करने का कारण बनता है। अंकुर ग्रीनहाउस या छोटे रोपाई में उभरने में विफल हो जाते हैं और उभरने या प्रत्यारोपण के तुरंत बाद मर जाते हैं। जीवित पौधों में मिट्टी की रेखा के करीब तने पर पानी से लथपथ क्षेत्र होते हैं।
Organic Solution:
इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है। एक बार पुष्टि होने के बाद, संक्रमित पौधों को तुरंत हटा दें और उन्हें कचरे में छोड़ दें। मिट्टी में ऐसे बीज न शुरू करें जिनमें नाइट्रोजन का स्तर अधिक हो। रोपाई के बाद नाइट्रोजन की खाद डालें, जिससे उनकी पहली असली पत्तियाँ पैदा होती हैं। मिट्टी की सतह को पानी के बीच सूखने दें
Chemical Solution:
संक्रमित मिट्टी में उगाए गए पौधों के बैक्टीरियल विल्ट पर नियंत्रण मुश्किल है। गैर-अतिसंवेदनशील पौधों, जैसे कि मकई, सेम और गोभी के साथ कम से कम तीन साल तक रोटेशन कुछ नियंत्रण प्रदान करता है। इस चक्कर में मिर्च, बैंगन, आलू, सूरजमुखी या कॉसमॉस का इस्तेमाल न करें। सभी संक्रमित पौधे सामग्री को निकालें और नष्ट करें। केवल प्रमाणित रोगमुक्त पौधे ही लगाएं। कल्टीवेटर केवेलो आंशिक रूप से बैक्टीरियल विल्ट के लिए प्रतिरोधी है, लेकिन एक असामान्य खेती है। इस बीमारी के लिए रासायनिक नियंत्रण उपलब्ध नहीं है।

Tomato (टमाटर) Crop Types

You may also like

No video Found!

Frequently Asked Questions

Q1: टमाटर किस महीने में उगाया जाता हैं?

Ans:

आप जानते हैं कि टमाटर एक गर्मी के मौसम की सब्जी है और आमतौर पर गर्मियों में वार्षिक रूप से उगाई जाती है। टमाटर की बिजाई मार्च से जून तक करनी चाहिए।

Q3: टमाटर सेहत के लिए कितना फायदेमंद है?

Ans:

आप जानते हैं कि टमाटर एंटीऑक्सिडेंट लाइकोपीन का प्रमुख आहार स्रोत है, जिसे हृदय रोग और कैंसर के कम जोखिम सहित कई स्वास्थ्य लाभों से जोड़ा गया है। टमाटर भी विटामिन सी, पोटेशियम, फोलेट और विटामिन के का एक बड़ा स्रोत हैं।

Q5: भारत में टमाटर का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य कौन सा है?

Ans:

आंध्र प्रदेश देश में लगभग 17.9% टमाटर का उत्पादन कर रहा है और टमाटर के उत्पादन में अग्रणी है जिसमें 0.17 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्र से 3.4 मिलियन मीट्रिक टन का उत्पादन होता है। 20 मीट्रिक टन/हेक्टेयर की उत्पादकता के साथ।

Q7: टमाटर की खेती के लिए किस प्रकार की मिट्टी की आवश्यकता होती हैं?

Ans:

टमाटर को रेतीली से लेकर भारी मिट्टी तक विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है। हालांकि, अच्छी जल निकासी वाली, रेतीली या लाल दोमट मिट्टी, जो 7 से 8.5  पीएच रेंज के साथ कार्बनिक पदार्थों से भरपूर होती है, को आदर्श माना जाता है।

Q2: टमाटर को उगने में कितना समय लगता है?

Ans:

आप जानते हैं कि शुरुआती मौसम में टमाटर की रोपाई करके फसल तक पहुँचने के लिए 50 से 60 दिनों की आवश्यकता होती है; सीजन-टू-सीजन टमाटर को 60 से 80 दिनों की आवश्यकता होती है; देर से सीजन के टमाटर को 80 या अधिक दिनों की आवश्यकता होती है।

Q4: विश्व में टमाटर का सर्वाधिक उत्पादन किस देश में होता है?

Ans:

आप जानते हैं कि चीन दुनिया का सबसे बड़ा टमाटर उत्पादक देश माना जाता है।

Q6: एशिया का सबसे बड़ा टमाटर बाजार कौन सा है?

Ans:

मदनपल्ली एशिया का सबसे बड़ा टमाटर बाजार है।