kisan

Cumin (जीरा)

Basic Info

जीरा का वानस्पतिक नाम है, Cuminum cyaminum जीरा मसाले वाली मुख्य बीजीय फसल है। देश का 80 प्रतिशत से अधिक जीरा गुजरात व राजस्थान राज्य में उगाया जाता है। देश का 80 प्रतिशत से अधिक जीरा गुजरात व राजस्थान राज्य में उगाया जाता है। यह विभिन्न खाद्य तैयारी स्वादिष्ट बनाने के लिए भारतीय रसोई में इस्तेमाल एक महत्वपूर्ण मसाला है। जीरा बड़े पैमाने पर भी विशेष रूप से मोटापा, पेट दर्द और dyspesia जैसी स्थितियों के लिए विभिन्न आयुर्वेदिक दवाओं में इस्तेमाल किया जाता है। जीरे की औसत उपज (380 कि.ग्रा.प्रति हे.)पड़ौसी राज्य गुजरात (550कि.ग्रा.प्रति हे.)कि अपेक्षा काफी कम है। उन्नत तकनीकों के प्रयोग द्वारा जीरे की वर्तमान उपज को 25-50 प्रतिशत तक बढ़ाया जा सकता है।

Seed Specification

बुवाई का समय 
जीरे की बुवाई 1 नवंबर से 25 नवंबर के मध्य कर देनी चाहिये।

बीज की मात्रा
12-15 kg/हेक्टेयर का एक बीज की दर पर्याप्त है।

बीज उपचार 
बीज बुवाई से पहले फफूंदनाशक जैसे 2 ग्राम मेंकोजेब प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित किया जाता है या ट्राइकोडर्मा 4 से 6 ग्राम प्रति किलोग्राम का उपयोग करते हैं।

बुवाई का तरीका 
यह प्रसारण और लाइन बुआई से बोया जाता है।

तापमान 
जीरे की बुवाई के समय तापमान 24 से 28°सेंटीग्रेड होना चाहिये तथा वानस्पतिक वृद्धि के समय 20 से 25°सेंटीग्रेड तापमान उपयुक्त रहता है।

Land Preparation & Soil Health

भूमि का चयन
जीरे की खेती के लिए जीवांशयुक्त हल्की एवं दोमट उपजाऊ भूमि अच्छी होती है। इस भूमि में जीरे की खेती आसानी से की जा सकती है। भूमि में जल निकास की उपयुक्त व्यवस्था आवश्यक है। भारी, लवणीय एवं क्षारीय भूमि इसकी खेती के लिए बाधक मानी जाती है।

आवश्यक जलवायु
मॉडरेट उप उष्णकटिबंधीय जलवायु जीरा खेती के लिए आदर्श है। मामूली ठंडी और शुष्क जलवायु सबसे अच्छा है। यह अच्छी तरह से सूखा और ठण्डे मौसम की उपज और उप-उष्णकटिबंधीय जलवायु जीरा बीज की खेती के लिए आदर्श है।

खेत की तैयारी
जीरे की खेती के लिए खेत में पहली जुताई के समय हल या कल्टीवेटर से मिट्टी को पलटने की प्रक्रिया की जाती है । इसके बाद 3-4 जुताई से मृदा नरम व भुरभुरी हो जाती है । इसके उपरान्त खेत को समतल कर क्यारियाँ बना ली जाती हैं।

Crop Spray & fertilizer Specification

खाद एवं उर्वरक
जीरे कि फसल के लिए खाद उर्वरकों कि मात्रा भूमि जाँच करने के बाद देनी चाहियेl सामान्य परिस्थितियों में जीरे की फसल के लिए पहले 5 टन गोबर या कम्पोस्ट खाद अन्तिम जुताई के समय खेत में अच्छी प्रकार मिला देनी चाहियेl इसके बाद बुवाई के समय 65 किलो डीएपी व 9 किलो यूरिया मिलाकर खेत में देना चाहियेl प्रथम सिंचाई पर 33 किलो यूरिया प्रति हेक्टयर की दर से छिड़काव कर देना चाहिये

Weeding & Irrigation

खरपतवार नियंत्रण
खरपतवार जीरा की खेती में एक गंभीर समस्या है। जीरे की फसल में खरपतवारों का अधिक प्रकोप होता है क्योंकि प्रांरभिक अवस्था में जीरे की बढ़वार हो जाती है तथा फसल को नुकसान होता है जीरे में खरपतवार नियंत्रण करने के लिए बुवाई के समय दो दिन बाद तक पेन्डीमैथालिन (स्टोम्प ) नामक खरपतवार नाशी की बाजार में उपलब्ध 3.3 लीटर मात्रा का 500 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव कर देना चाहिये इसके उपरान्त जब फसल 25 -30 दिन की हो जाये तो एक गुड़ाई कर देनी चाहिये। यदि मजदूरों की समस्या हो तो आक्सीडाईजारिल (राफ्ट) नामक खरपतवार-नाशी की बाजार में उपलब्ध 750 मि.ली. मात्रा को 500 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव कर देना चहिये।

सिंचाई 
जीरे की खेती में सिंचाई बीज बुवाई के तुरंत बाद करें | ध्यान रहे सिंचाई हल्की होनी चाहिए तथा तेज बहाव में नहीं करें | तेज बहाव में करने से जीरा पानी में बह कर एक जगह पर आ जाता है | दूसरी सिंचाई बुवाई के 7 दिन बाद करें | इसके बाद प्रत्येक 20 दिन के अंतराल पर 4 से 5 सिंचाई आवश्य दें | याद रहे जीरे के फूल पर सिंचाई नहीं करें|

Harvesting & Storage

कटाई एवं गहाई
सामान्य रूप से जब बीज एवं पौधा भूरे रंग का हो जाये तथा फसल पूरी पक जाये तो तुरन्त कटाई कर लेनी चाहिये। पौधों को अच्छी प्रकार से सुखाकर थ्रेसर से मँड़ाई कर दाना अलग कर लेना चाहिये। दाने को अच्छे प्रकार से सुखाकर साफ बोरों में भंडारित कर लिया जाना चाहिये।

उपज एवं लाभ
उन्नत विधियों के उपयोग करने पर उपयोग करने पर जीरे की औसत उपज 7-8 कुन्तल बीज प्रति हेक्टयर प्राप्त हो जाती है। जीरे की खेती में लगभग 30 से 35 हज़ार रुपये प्रति हेक्टयर का खर्च आता है। जीरे के दाने का 100 रुपये प्रति किलो भाव रहना पर 40 से 45 हज़ार रुपये प्रति हेक्टयर का शुद्ध लाभ प्राप्त किया जा सकता है।


Crop Related Disease

Description:
पत्ती की कलियों और अन्य पौधों के मलबे के अंदर फंगल स्पॉन्सर ओवरविनटर। हवा, पानी और कीड़े आसपास के पौधों को बीजाणु पहुंचाते हैं। भले ही यह कवक है, लेकिन पाउडर फफूंदी सामान्य रूप से सूखे की स्थिति में विकसित हो सकती है। यह 10-12 डिग्री सेल्सियस के बीच के तापमान पर जीवित रहता है, लेकिन 30 डिग्री सेल्सियस पर इष्टतम स्थिति पाई जाती है। नीच फफूंदी के विपरीत, अल्प मात्रा में वर्षा और नियमित रूप से सुबह ओस चूर्ण फफूंदी के प्रसार को तेज करता है।
Organic Solution:
सल्फर, नीम तेल, काओलिन या एस्कॉर्बिक एसिड पर आधारित पर्ण स्प्रे गंभीर संक्रमण को रोक सकते हैं।
Chemical Solution:
यदि उपलब्ध हो तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के साथ एक एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। उन फसलों की संख्या के मद्देनजर जो कि ख़स्ता फफूंदी के लिए अतिसंवेदनशील हैं, किसी भी विशेष रासायनिक उपचार की सिफारिश करना मुश्किल है। Wettable सल्फर (3 g / l), हेक्साकोनाज़ोल, माइकोबुटानिल (सभी 2 मिलीलीटर / l) पर आधारित कवक कुछ फसलों में कवक के विकास को नियंत्रित करते हैं।
Description:
रोग बाहरी और आंतरिक रूप से पैदा होने वाला बीज है। रोगजनक पौधे के मलबे या खरपतवार में बीजाणु (कोनिडिया) या माइसेलियम के माध्यम से जीवित रहता है। नम (70% से अधिक सापेक्ष आर्द्रता) गर्म मौसम (12-25 डिग्री सेल्सियस) और आंतरायिक बारिश के साथ मिलकर रोग के विकास का पक्षधर हैl
Organic Solution:
नीम 25 से 200 गैलन में लागू करें |
Chemical Solution:
फोलर स्प्रे 45 DAS पर मेनकोजेब (0.2%) के साथ 60% IAS उसके बाद हेक्साकोनाज़ोल (0.05%) Quadris- अधिकतम तीन आवेदन (27 ऑउंस); शुरुआत 10-25% खिलने पर; 95% पेटल गिरने से पहले आवेदन न करें|
Description:
यह रोग आमतौर पर अंकुर अवस्था में दिखाई देता है। यह रोग पत्तियों में पानी की कमी के कारण होता है और यह मृदा जनित बीमारी है।
Organic Solution:
अपनी मिट्टी का परीक्षण करें और वनस्पति उद्यान में धीमी गति से रिलीज, जैविक उर्वरक का उपयोग करें। एक खरपतवार या प्राकृतिक शाकनाशी का उपयोग करके हाथ खींचना या धब्बों का इलाज करना - कई खरपतवार प्रजातियां रोग के रोगज़नक़ों की मेजबानी करती हैं।
Chemical Solution:
बीज राइजोम को रोपण के लिए रोग मुक्त खेतों से लेना चाहिए। बीज rhizomes 30 मिनट के लिए स्ट्रेप्टोसाइक्लिन 200 पीपीएम के साथ इलाज किया जा सकता है और रोपण से पहले छाया सूख जाता है। एक बार जब रोग क्षेत्र में देखा जाता है, तो सभी बेड बोर्डो मिश्रण 1% या कॉपर ऑक्सीक्लोराइड 0.2% से भीगना चाहिए। माइकोस्टॉप एक जैविक कवकनाशी है जो फ़ुस्सैरियम के कारण होने वाले विल्ट से फसलों की रक्षा करेगा।
Description:
ये सिकुड़े हुए काले तनों को विकसित करते हैं और अंततः खत्म हो जाते हैं और मर जाते हैं, हालांकि तना कुछ समय बाद तक सीधा रह सकता है। इस प्रकार का डंपिंग मुख्य रूप से बहुत छोटे अंकुरों को प्रभावित करता है और एक समस्या कम हो जाती है क्योंकि वे बड़े हो जाते हैं और उनके तने कठिन हो जाते हैं। डम्पिंग ऑफ़ ज्यादातर इनडोर सीड रेजिंग की बीमारी है। एक अच्छी हवादार, ठंडी ग्रीनहाउस में अपनी रोपाई को बढ़ाना, भिगोना बंद करने से बहुत कम समस्याएं पैदा करेगा।
Organic Solution:
नीम पत्ती निकालने के बाद लहसुन लौंग और अल्लामोंडा पत्ती के अर्क के साथ-साथ बढ़ती हुई वृद्धि विकास पात्रों के साथ भिगोना-बंद रोग की घटना को दबाने के लिए। गमलों में उपचारित बीज को बोने के बाद तीन सब्जियों के बीजों का बीज अंकुरण भी बढ़ जाता है।
Chemical Solution:
एंटी-फंगल उपचार (जैसे कॉपर ऑक्सीक्लोराइड)

Cumin (जीरा) Crop Types

You may also like

Frequently Asked Questions

Q1: जीरा भारत में कहां उगा है?

Ans:

मुख्यतः जीरा राजस्थान और गुजरात राज्यों में लगाया जाता है जिन्होंने जीरा अधिक उत्पादन किया जाता है। इनमें से, गुजरात ने वित्त वर्ष 2020 में लगभग 330 हजार मीट्रिक टन का उत्पादन किया। उस वर्ष जीरे का कुल उत्पादन 541 हजार मीट्रिक टन जो 841 हजार हेक्टेयर क्षेत्र का उत्पादन है।

Q3: जीरा में क्या मसाला है?

Ans:

जीरा एक मसाला है, जिसे एक पौधे के सूखे बीज से बनाया जाता है जिसे क्यूम्यन सिनामिनम के रूप में जाना जाता है, जो कि अजमोद परिवार का एक सदस्य है। जीरा सबसे लोकप्रिय मसालों में से एक है और इसका इस्तेमाल आमतौर पर लैटिन अमेरिकी, मध्य पूर्वी, उत्तरी अफ्रीकी और भारतीय व्यंजनों में किया जाता है।

Q5: जीरे का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य कौन सा है?

Ans:

गुजरात देश में जीरा का अकेला सबसे बड़ा उत्पादक है जो कुल उत्पादन का 60-70% से अधिक का उत्पादन करता है और शेष उत्पादन राजस्थान से आता है।

Q7: 7 भारतीय मसाले कौन से हैं?

Ans:

भारत में लंबे समय से मसालों का उपयोग मुख्य आहार योजक के रूप में किया जा रहा है। अध्ययन सात मसालों की खोज करता है जिसमें जीरा, लौंग, धनिया, दालचीनी, हल्दी, मेथी, और इलायची शामिल हैं जो पाक उपयोग के साथ-साथ चिकित्सा उपयोगों के आधार पर हैं।

Q2: जीरा कितने प्रकार का होता है?

Ans:

तीन किस्में साथ ही, जीरा कितने प्रकार का होता है? जीरा की तीन किस्में, जीरा (C. cyminum), काला जीरा (Nigella sativa) और कड़वा जीरा (Cumin nigrum) की जांच की गई।

Q4: जीरा मसाला के लिए अच्छा क्या है?

Ans:

भारतीय करी और चटनी के लिए जीरा एक आवश्यक मसाला है। यह मसाला कई प्रकार के चावल के व्यंजन, स्ट्यू, सूप, ब्रेड, अचार, बारबेक्यू सॉस और चिली कॉन रेसिपी में अच्छा काम करता है। जीरा के साथ पकाते समय यह रूढ़िवादी होना सबसे अच्छा है क्योंकि इसका स्वाद आसानी से एक डिश से आगे निकल सकता है।

Q6: मसालों के लिए कौन सा राज्य प्रसिद्ध है?

Ans:

केरल राज्य 'स्पाइस ट्रेड हब' है। केरल को भारत के मसाला उद्यान के रूप में जाना जाता है क्योंकि इसमें कई प्रकार के मसाले होते हैं और यह पूरी दुनिया में लोकप्रिय है।