kisan

Arhar (अरहर)

Basic Info

भारत विश्व में दलहनी फसलों के क्षेत्रफल एवं उत्पादन में प्रथम स्थान पर है। खरीफ की दलहनी फसलों में अरहर प्रमुख है। यह एक महत्वपूर्ण फसल है और प्रोटीन का स्त्रोत है। यह फसल ऊष्ण और उप ऊष्ण क्षेत्रों में उगाई जाती है। भारत देश में अरहर को अरहर, तुर, रेड ग्राम, व पिजन पी के नाम से जाना जाता है। अरहर का जन्म स्थान वैज्ञानिक भारत व दक्षिण अफ़्रीका मानते हैं। हम भारतवासियों के लिए यह बड़े गर्व की बात है। घर घर में प्रोटीन का मुख्य स्रोत के लिए मशहूर अरहर हमारे देश का पौधा है। महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, कर्नाटक एवं आन्ध्र प्रदेश देश के प्रमुख अरहर उत्पादक राज्य हैं।

Seed Specification

अरहर की प्रसिद्ध किस्में :-

ऋचा २००० - अरहर की सदाबहार किस्म,उपास-120 (1976), आई.सी.पी.एल.-87 (प्रगति,1986), ट्राम्बे जवाहर तुवर - 501 (2008), जे.के.एम.-7 (1996), जे.के.एम.189 (2006), आई.सी.पी.-8863 (मारुती, 1986), जवाहर अरहर-4 (1990), आई.सी.पी.एल.-87119 (आषा 1993),आई.सी.पी.एल.-87119 (आषा 1993), बी.एस.एम.आर.-853 (वैषाली, 2001), बी.एस.एम.आर.-736 (1999), विजया आई.सी.पी.एच.-2671 (2010), एम.ए-3 (मालवीय, 1999), ग्वालियर-3 (1980),


बुवाई का समय :-

अरहर की बुवाई वर्षा प्रारम्भ होने के साथ ही कर देना चाहिए। सामान्यतः जून के अंतिम सप्ताह से लेकर जुलाई के प्रथम सप्ताह तक बोनी करें। बिजाई के लिए 50 से.मी. कतारों में और 25 से.मी. पौधों में फासला रखें।


बीज की मात्रा :-

अगेती किस्म के लिए 6 से 8 किलो ग्राम तथा पिछेती क़िस्मों के लिए भी 8 -10 किलो ग्राम बीज की मात्रा प्रति एकड़  उपयुक्त होता है।


बीज उपचार :-

बुवाई के पूर्व फफूदनाशक दवा 2 ग्राम थायरम या 1 ग्राम कार्बेन्डेजिम या वीटावेक्स 2 ग्राम प्रति किलो बीज के हिसाब से उपचारित करें। जैविक उपचार में ट्राइकोडर्मा 4 ग्राम /किलो बीज और रायजोबियम कल्चर 10 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से उपचारित कर फिर बुवाई करें।

Land Preparation & Soil Health

भूमि :-
अरहर का अच्छे उप्तादन हेतु जीवांश युक्त बलुई दोमट वा दोमट भूमि अच्छी होती है। उचित जल निकास तथा हल्के ढालू खेत अरहर के लिए सर्वोत्तम होते हैं। यह फसल 6.5-7.5 पी एच तक अच्छी उगती है। अरहर की खेती के लिए लवणीय तथा क्षारीय भूमि अनुकूल नहीं होती हैं, अरहर की खेती काली मृदा में भी सफलतापूर्वक की जा सकती है |

भूमि की तैयारी :-
अरहर की खेती के लिए बुवाई से पूर्व 2-3 बार खेत की अच्छी तरह से देशी हल या कल्टीवेटर से अच्छी तरह से जुताई करे, ताकि मिट्टी भुरभुरि हो जाये फिर इसके बाद पाटा चलाकर बुवाई  के लिए खेत तैयार करें।

Crop Spray & fertilizer Specification

खाद एवं रासायनिक उर्वरक :-
अरहर की खेती में बुवाई से पूर्व खेत तैयार करते समय अच्छी सड़ी हुई गोबर की खाद 15-20 टन /एकड़ के हिसाब से मिट्टी में अच्छी तरह से मिला देनी चाहिए ताकि उत्पादन में वृद्धि हो। रासायनिक उर्वरक में नाइट्रोजन 6 किलो (13 किलो यूरिया), फासफोरस 16 किलो (100 किलो सिंगल सुपर फॉस्फेट) और पोटाश 12 किलो (20 किलो एम ओ पी) की मात्रा प्रति एकड़ में प्रयोग करें। ध्यान रहे रासायनिक उर्वरक मिट्टी परिक्षण के आधार से ही प्रयोग में लाये।


हानिकारक कीट एवं रोग और उनके रोकथाम

हानिकारक कीट :-
मक्खी और फली का मत्कुण - इन कीटो की रोकथाम के लिए डायमिथोएट 30 ई.सी. या प्रोपेनोफास-50 के 1000 मिली. मात्रा 500 लीटर पानी में घोलकर छिडकाव करें।
छेदक इल्ली और  प्लू माथ और ब्लिस्टर बीटल - इन कीटो की रोकथाम के लिए इण्डोक्सीकार्ब 14.5 ई.सी. 500 एम.एल. या क्वीनालफास 25 ई.सी. 1000 एम.एल. या ऐसीफेट 75 डब्लू.पी. 500 ग्राम को 500 लीटर पानी में घोलकर प्रति हैक्टेयर छिडकाव करें।


हानिकारक रोग :-
पत्तों पर धब्बे - पत्तों के ऊपर हल्के और गहरे भूरे रंग के धब्बे दिखाई देते हैं। बहुत ज्यादा बिमारी होने पर यह पेटीओल और तने पर हमला करती है। इसको रोकने के लिए बीज बिमारी मुक्त हो और बीज को थीरम 3 ग्राम या मैंकोजेब 2 ग्राम प्रति किलो के साथ उपचार करें ।

उकटा रोग - यह फ्यूजेरियम नामक कवक से फैलता है। रोग के लक्षण साधारणतया फसल में फूल लगने की अवस्था पर दिखाई पडते है। सितंबर से जनवरी महिनों के बीच में यह रोग देखा जा सकता है। पौधा पीला होकर सूख जाता है । इसमें जडें सड़ कर गहरे रंग की हो जाती है तथा छाल हटाने पर जड़ से लेकर तने की उचाई तक काले रंग की धारिया पाई जाती है। 
इस बीमारी की रोकथाम के लिए गर्मी के समय खेत की अच्छी गहरी जुताई करना आवश्यक होती है। गर्मी में गहरी जुताई व अरहर के साथ ज्वार की अंतरवर्तीय फसल लेने से इस रोग का संक्रमण कम रहता है। और बीज उपचारित करके बुवाई करें।  

बांझपन विषाणु रोग - यह बिमारी इरीओफाईड कीट के साथ होती है। इसके हमले से फूल नहीं बनते और पत्ते हल्के रंग के हो जाते हैं, इसको रोकने के लिए फेनाज़ाकुईन 10 % ई सी 300 मि.ली. प्रति एकड़ 200 लि. पानी में मिला कर छिड़काव करें।

फायटोपथोरा झुलसा रोग - रोग ग्रसित पौधा पीला होकर सूख जाता है। इसमें तने पर जमीन के उपर गठान नुमा असीमित वृद्धि दिखाई देती है व पौधा हवा आदि चलने पर यहीं से टूट जाता है। इसकी रोकथाम हेतु 3 ग्राम मेटेलाक्सील फफूँदनाशक दवा प्रति किलो बीज के हिसाब से उपचारित करें।

Weeding & Irrigation

खरपतवार नियंत्रण :-
अरहर के खरपतवारों के नियंत्रण के लिए 20-25 दिन में पहली निंदाई तथा फूल आने के पूर्व दूसरी निंदाई करें। खरपतवारनाशक पैंडीमैथालीन 2 ली. प्रति एकड. 150-200 ली. पानी में बुवाई से 2 दिन बाद डालें । खरपतवारनाशक प्रयोग के बाद एक नींदाई लगभग 30 से 40 दिन की अवस्था पर करना लाभदायक होता है। सकरी पत्ती या घास कुल खरपतवार के नियंत्रण लिए क्विजैलोफाप 5 ई.सी. टर्गासुपर 800-1000 मिली बुवाई के 15-20 दिन बाद प्रयोग करें।

सिंचाई :-
जहां सिंचाई की सुविधा हो वहां एक सिंचाई फूल आने पर व दूसरी फलियां बनने की अवस्था पर करने से पैदावार अच्छी होती है।

Harvesting & Storage

कटाई :-
80 प्रतिशत फलियों के पक जाने पर फसल की कटाई गड़ासे या हॅंसिया से 10 से.मी. की उॅंचाई पर करना चाहिए। तत्पश्चात फसल को सूखने के लिए बण्डल बनाकर फसल को खलिहान में ले आते हैं। फिर चार से पॉच दिन सुखाने के पश्चात पुलमैन थ्रेशर द्वारा या लकड़ी के लठ्ठे पर पिटाई करके दानो को भूसे से अलग कर लेते हैं।

भण्डारण :-
भण्डारण हेतु नमी का प्रतिशत 10-11 प्रतिशत से अधिक नहीं होना चाहिए। भण्डारण में कीटों से सुरक्षा हेतु अल्यूमीनियम फास्फाइड की 2 गोली प्रति टन प्रयोग करे।


अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें।



Crop Related Disease

Description:
पत्तियां रूखी और विकृत हो जाती हैं जो पत्तियों और अंकुरों के नीचे 0.5 से 2 मिमी तक के आकार के छोटे कीड़ों के कारण होती हैं। वे निविदा पौधों के ऊतकों को छेदने और तरल पदार्थों को चूसने के लिए अपने लंबे मुखपत्र का उपयोग करते हैं। कई प्रजातियां पौधों के वायरस ले जाती हैं जो अन्य बीमारियों के विकास को जन्म दे सकती हैं।
Organic Solution:
हल्के जलसेक के लिए, एक कीटनाशक साबुन समाधान या संयंत्र तेलों पर आधारित समाधान, उदाहरण के लिए, नीम तेल (3 एमएल / एल) का उपयोग किया जा सकता है। प्रभावित पौधों पर पानी का एक स्प्रे भी उन्हें हटा सकता है।
Chemical Solution:
बुवाई के बाद 30, 45, 60 दिनों में फ्लोनिकमिडियम और पानी (1:20) अनुपात के साथ स्टेम अनुप्रयोग की योजना बनाई जा सकती है। Fipronil 2 mL या thiamethoxam (0.2 g) या flonicamid (0.3 g) या acetamiprid (0.2 प्रति लीटर पानी) का भी उपयोग किया जा सकता है।
Description:
कवक के कारण Cercospora canescens जो बीज-जनित है और मिट्टी में पौधे के मलबे पर 2 से अधिक वर्षों तक जीवित रह सकता है। ऊंचा दिन और रात का तापमान, नम मिट्टी, उच्च हवा की नमी, या भारी तूफानी बारिश कवक के प्रसार के लिए अनुकूल परिस्थितियां हैं।
Organic Solution:
बीज का गर्म जल उपचार संभव है। नीम के तेल के अर्क का आवेदन भी रोग की गंभीरता को कम करने में प्रभावी है।
Chemical Solution:
जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के साथ एकीकृत दृष्टिकोण। यदि कवकनाशी के साथ उपचार की आवश्यकता होती है, तो 10 दिनों के अंतराल पर दो बार mancozeb, chlorothalonil (1g / L), या thiophanate मिथाइल (1 mL) युक्त उत्पाद लागू करें।
Description:
Agromyzidae के परिवार से संबंधित कई मक्खियों तथा दुनिया भर में कई हजार प्रजातियों के कारण लक्षण देखा जा सकता है। वे पत्ती के ऊतकों को पंचर करते हैं और अंडे देते हैं। इस प्रकार ऊपरी और निचली पत्ती की सतह के बीच लार्वा फ़ीड होता है, पीछे काले निशान के साथ बड़ी सफेद रंग की सुरंगों का निर्माण होता है।
Organic Solution:
सुबह या देर शाम पत्तियों पर लार्वा के खिलाफ नीम के तेल उत्पादों (अज़ादिराच्तीन) का छिड़काव करें। एन्टोमोफैगस नेमाटोड, स्टीनरनेमा कार्पोकैप्स के फोलियर अनुप्रयोग, पत्ती की खान की आबादी को कम कर सकते हैं।
Chemical Solution:
ऑर्गनोफोस्फेट्स, कार्बामेट्स और पाइरेथ्रोइड्स परिवारों के व्यापक स्पेक्ट्रम कीटनाशक वयस्कों को अंडे देने से रोकते हैं, लेकिन वे लार्वा को नहीं मारते हैं।
Description:
युवा कैटरपिलर एक काले सिर और काले बालों के साथ क्रीम-सफेद रंग के होते हैं; पुराने लार्वा पीले-हरे रंग के हो सकते हैं, जो उनके शरीर के साथ सफेद रेखाओं के साथ लगभग काले रंग के होते हैं और बालों के आधार पर काले धब्बे होते हैं।
Organic Solution:
Parasitoid Trichogramma और Telenomus wasps अंडों को संक्रमित करके जनसंख्या को एक निश्चित सीमा तक नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। फंगल रोगज़नक़ नोमुरिया रिलेई और परमाणु पॉलीहेड्रोसिस वायरस भी आबादी को कम करते हैं।
Chemical Solution:
रासायनिक नियंत्रण की शायद ही कभी सिफारिश की जाती है क्योंकि लार्वा को कोब के अंदर छिपाते हैं और उपचार के संपर्क में नहीं आते हैं। पाइरेथ्रॉइड, स्पिनेटोरम, एस्फेनवेलरेट, या क्लोरपाइरीफोस वाले कीटनाशकों का उपयोग किया जा सकता है।

Arhar (अरहर) Crop Types

You may also like

Frequently Asked Questions

Q1: अरहर किस मौसम में उगाया जाता है?

Ans:

अरहर की फसल गर्मी, बरसात और सर्दियों के मौसम, अप्रैल-ग्रीष्म, जून-खरीफ या बरसात, सितंबर-रबी या सर्दियों के मौसम में सफलतापूर्वक उगाई जाती है।

Q3: भारत में अरहर दाल की खेती कहाँ होती है?

Ans:

भारत के पास विश्व के उत्पादन और एकड़ का ¾ हिस्सा है। अरहर फसल महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और गुजरात में बड़े पैमाने पर उगाई जाती है।

Q5: क्या अरहर दाल (तुअर दाल) स्वास्थ्य के लिए अच्छा है?

Ans:

विटामिन, खनिज और फाइबर के समृद्ध स्रोत के रूप में, छोले कई तरह के स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकते हैं, जैसे पाचन में सुधार, वजन प्रबंधन में सहायता और कई बीमारियों के जोखिम को कम करना। इसके अतिरिक्त, छोले प्रोटीन में उच्च होते हैं और शाकाहारी भोजन के लिए एक उत्कृष्ट प्रतिस्थापन बनाते हैं।

Q2: अरहर की फसल क्या है?

Ans:

अरहर, एक खरीफ मौसम की फसल, जिसे आमतौर पर लाल चना, अरहर या अरहर के रूप में भी जाना जाता है। यह देश में चने और प्रमुख खरीफ फसल के बाद दूसरी महत्वपूर्ण दलहन फसल है। भारत दुनिया में 80% और 67% क्रमशः उत्पादन और उत्पादन के साथ दुनिया में क्षेत्रफल और उत्पादन में प्रथम स्थान पर है।

Q4: किस फसल को गरीबों का भोजन कहा जाता है?

Ans:

दालें गरीबों के भोजन के रूप में जानी जाती हैं क्योंकि वे पोषण से भरपूर और कम लागत वाली होती हैं। इसलिए, अधिकांश निम्न-आय वाली आबादी इस पौष्टिक फसल को अपने मुख्य भोजन के रूप में उपयोग कर सकती है।

Q6: अरहर की फसल के लिए कौन सी मिट्टी अधिक उपयुक्त हैं?

Ans:

यह फसल सभी प्रकार की मिट्टी में अच्छी तरह से उगती है लेकिन दोमट से बलुई दोमट मिट्टी उपयुक्त होती है। यह फसल मध्य-पहाड़ियों में ढीली भूमि में भी अच्छा करती है।