Social Share:
जानिए सबसे पौष्टिक गेहूं की किस्म (पूसा यशस्वी) एचडी 3226 के बारे में
जानिए सबसे पौष्टिक गेहूं की किस्म (पूसा यशस्वी) एचडी 3226 के बारे में

Wheat Variety HD 3226 : रबी की फसल में गेहूं सबसे महत्वपूर्ण फसल है, इसकी खेती भारत के लगभग सभी राज्यों में की जाती है। आनुवंशिकी संभाग, भाकृअनुप-भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली द्वारा किसानों के लिए गेहूं की एक किस्म विकसित की गई है। जिसका नाम है एचडी 3226 (पूसा यशस्वी), गेहूँ की किस्म एचडी 3226 को सिंचित, समय पर बोई गई शर्तों के तहत उत्तर पश्चिमी मैदान क्षेत्र में पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान (कोटा और उदयपुर संभाग को छोड़कर), पश्चिमी उत्तर प्रदेश (झांसी डिवीजन को छोड़कर), जम्मू और कश्मीर का जम्मू और कठुआ जिला, ऊना जिला, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड का पनोटा घाटी (तराई क्षेत्र) में वाणिज्यिक खेती के लिए जारी किया गया है।


गेहूँ की किस्म एचडी 3226 की विशेषता :
रोग प्रतिरोध क्षमता
  • पीले, भूरे और काले जंग के लिए अत्यधिक प्रतिरोधी
  • कर्नाल बंट, पाउडर की तरह फफूंदी, श्‍लथ कंड और पद गलन रोग के लिए अत्यधिक प्रतिरोधी
गुणवत्ता मापदंड (quality criteria)
  • उच्च प्रोटीन सामग्री (12.8% औसत)
  • उच्च शुष्क और गीला लासा
  • बेहतर आकार का अनाज, उच्च अवसादन मूल्य, उच्च निष्कर्षण दर
  • औसत जस्ता सामग्री 36.8 पीपीएम
  • HD 3226 में उच्चतम रोटी गुणवत्ता अंक (6.7) और पाव रोटी के साथ परफेक्ट ग्लू -1 अंक (10) है जो विभिन्न उपयोगी उत्पादों के लिए उपयुक्तता दर्शाता है।
उत्पादन क्षमता (Production capability)
गेहूँ की किस्म एचडी 3226 की औसत उपज 57.5 क्विंटल प्रति हैक्टेयर है जबकि आनुवंशिक उपज क्षमता 79.60 क्विंटल प्रति हैक्टेयर है।


गेहूँ की किस्म एचडी 3226 की खेती
बीज की मात्रा 
बुवाई के लिए बीज की मात्रा 100 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर बीज की आवश्यकता होती है। 

बुवाई का समय
गेहूँ की किस्म एचडी 3226 की बुवाई के लिए अनुकूल समय 05-25 नवंबर उत्तम होता है। 

खाद एवं रासायनिक उर्वरक प्रबंधन
उर्वरक खुराक (किलो/हेक्टेयर): नाइट्रोजन: 150 (यूरिया @ 255 किलोग्राम/हेक्टेयर); फास्फोरस: 80 (डीएपी @ 175 किलोग्राम/हेक्टेयर) पोटाश: 60 (एमओपी @ 100 किलोग्राम/हेक्टेयर)
उर्वरक अनुप्रयोग का समय: बुवाई के समय फास्फोरस और पोटाश की पूरी खुराक के साथ 1/3 नाइट्रोजन; शेष नाइट्रोजन पहली और दूसरी सिंचाई के बाद समान रूप से लागू होती है

सिंचाई प्रबंधन
गेहूं की बुवाई के 21 दिन बाद पहली सिंचाई और बाद में आवश्यकतानुसार सिंचाई करें।

अधिकतम उपज: अधिकतम उपज के लिए किस्म को अक्टूबर के दूसरे पखवाड़े में बोना चाहिए। उपयुक्त नाइट्रोजन प्रबंधन और दो स्प्रे का उपयोग टैंक मिक्स-क्लोर्मेक्वाट क्लोराइड (लियोसीन) @ 0.2% + टेबुकोनाजोल (फॉलिकुर 430 एससी) @ 0.1% व्यावसायिक उत्पाद खुराक के रूप में।

फसल की कटाई
इस गेहूं की भरपूर पैदावार लेने के लिए इसे अक्टूबर के अंत या नवम्बर के पहले सप्ताह में लगाना जरूरी है। इसकी फसल 142 दिन में तैयार हो जाती है। और  इस गेहूं की औसत उपज 57.5 क्विंटल प्रति हैक्टेयर है जबकि आनुवंशिक उपज क्षमता 79.60 क्विंटल प्रति हैक्टेयर है।