Social Share:
जानिए रबी फसलों के अंतर्गत आने वाली प्रमुख फसलें
जानिए रबी फसलों के अंतर्गत आने वाली प्रमुख फसलें

Rabi Crops: जलवायु परिवर्तन को ध्यान में रखते हुए रबी फसलों हेतु खेत की तैयारी एवं मृदा प्रबंधन अत्यंन्त आवश्यक है। रबी फसलों की बुवाई का कार्य अक्टूबर-नवम्बर माह में प्रारम्भ हो जाता है।

रबी की प्रमुख फसलें- इस वर्ग की प्रमुख फसलें निम्न हैं
  • अन्न वाली फसले- इसके अन्तर्गत गेहूं, जौ, जई, मक्का आदि आते है।
  • दलहनी फसलें- इस वर्ग की फसलों के दानों में प्रोटीन की बाहुल्यता होती हैं जैसे- चना, मटर, मसूर, खेसारी आदि ।
  • तिलहनी फसलें- इस वर्ग में वें फसले आती है जिनके बीजों से तेल प्राप्त होता है जैसे-सरसों, राई, अलसी, तोरिया, सूर्यमुखी आदि । 
  • चारे वाली फसलें- चारे वाली फसलों के अन्तर्गत वे सभी फसलें आती है जिन्हें पशुओं को खिलाने के उद्देश्य से उगाया जाता है। जैसे- बरसीम, जई, मक्का आदि ।
  • जड़ तथा कन्द वाली फसलें- इसके अन्तर्गत वे फसले आती हैं जिनकी जड़ों व कन्दो का उपयोग किया जाता हैं। जैसे-मूली, गाजर, आलू, शलजम, शकरकन्द आदि ।
  • सब्जियों वाली फसलें- इसके अर्न्तगत टमाटर, बैगन, भिन्डी, आलू, तोरिया, लौकी, करेला, सेम, बण्डा, फूलगोभी, पातगोभी, गाठगोभी, मूली, गाजर, शलजम, मटर, चुकन्दर, पालक, मेंथी, प्याज आदि फसलें आती है जिसका उपयोग सब्जियों के रुप में किया जाता है।
  • शर्करा वाली फसलें- इस वर्ग में वे फसलें आती हैं जिनके रस से चीनी तैयार किया जाता है, जैसे- चुकन्दर, गन्ना ।
  • मसालें वाली फसलें- इन फसलों का उपयोग मसाला सब्जियों, अचार, चटनी आदि में स्वाद व सुगन्ध की वृद्धि हेतु किया जाता है। जैसे- जीरा, सौंफ, अजवाइन, मंगरैल, धनियाँ, लहसुन, मिर्च आदि ।