Social Share:
सोयाबीन की खेती से अच्छा मुनाफा कमा सकते है किसान, जानिए बुवाई का उचित समय एवं पैदावार
सोयाबीन की खेती से अच्छा मुनाफा कमा सकते है किसान, जानिए बुवाई का उचित समय एवं पैदावार

सोयाबीन की खेती: सोयाबीन खरीफ की फसल है। यह पोषण और स्वास्थ्य के लिए उपयोगी है। इसमें कार्बोहाइड्रेट, वसा, प्रोटीन पाए जाते हैं। सोयाबीन भारत की एक महत्वपूर्ण तिलहन और ग्रंथियों वाली फसल है। यह खाद्य तेल आपूर्ति में भी महत्वपूर्ण है। इसका कृषि क्षेत्र बहुत बढ़ गया है, लेकिन अभी भी इसका उत्पादन बढ़ाना आवश्यक है। खाद्य तेल की आपूर्ति और सोया खली के निर्यात के साथ, सोयाबीन ने भारत की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दिया है।

सोयाबीन खरीफ की फसल है। सोयाबीन पोषण और स्वास्थ्य के लिए उपयोगी खाद्य पदार्थ है। हालांकि इसका क्षेत्रफल काफी बढ़ गया है, लेकिन अभी भी प्रति क्षेत्र उत्पादन बढ़ाना जरूरी है। जिसे नवीनतम फसल पद्धतियों के साथ उन्नत और कीट-रोग प्रतिरोधी किस्मों के उपयोग से बढ़ाया जा सकता है।

अनुकूल जलवायु
सोयाबीन को गर्म और नम जलवायु की आवश्यकता होती है, सोयाबीन के बीज के अंकुरण के लिए लगभग 24 डिग्री सेल्सियस और फसल की वृद्धि के लिए लगभग 24 से 30 डिग्री सेल्सियस की आवश्यकता होती है। सोयाबीन की अच्छी फसल के लिए वार्षिक वर्षा 55 से 70 सेल्सियस होनी चाहिए।

उपयुक्त भूमि
सोयाबीन की खेती के लिए अच्छी जल निकासी वाली, नमक रहित, उपजाऊ मध्यम से थोड़ी भारी दोमट मिट्टी की आवश्यकता होती है।

फसल चक्र
सोयाबीन की खेती फसल हलकों में की जा सकती है, यह लाभदायक भी है।
उदाहरण के लिए सोयाबीन-गेहूं, सोयाबीन-चना, सोयाबीन-आलू, सोयाबीन-सरसों आदि प्रमुख हैं।

उन्नत किस्मों का चयन
उन्नत किस्मों की फसल का अधिक उत्पादन प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। किसान को उन किस्मों का चयन करना चाहिए जिनमें उच्च उत्पादन क्षमता हो। जो विपरीत परिस्थितियों का सामना करने की क्षमता रखते हैं।

हमारे देश के लिए उपयुक्त किस्में इस प्रकार हैं-
उत्तरी पहाड़ी क्षेत्र - हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड।
प्रमुख किस्में- शिलाजीत, पूसा- 16, वीएल सोया-2, वीएल सोया- 47, हारा सोया, पालम सोया, पंजाब-1, पीएस-1241, पीएस-1092, पीएस-1347, वीएलएस- 59, वीएलएस- 63 आदि।

उत्तरी मैदानी क्षेत्र – पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार।
प्रमुख किस्में - पीके - 416, पूसा - 16, पीएस - 564, एसएल - 295, एसएल - 525, पीबी - 1, पीएस - 1024, पीएस - 1042, डीएस - 9712, पीएस - 1024, डीएस- 9814, पीएस- 1241 , पीएस- 1347 आदि।

मध्य भारत क्षेत्र - मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तरी महाराष्ट्र, गुजरात।
प्रमुख किस्में- JS- 93-05, JS- 95-60, JS-335, NRC-7, NRC- 37, JS- 80-21, समृद्धि, MAUS- 81 आदि।

दक्षिणी क्षेत्र - दक्षिणी महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश।
प्रमुख किस्में- Co-1, Co-2, MACS- 24, पूजा, PS-1029, KHSB-2, LSB-1, प्रतिकर, फुले कल्याणी, प्रसाद आदि।

उत्तर पूर्वी क्षेत्र - बंगाल, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, उड़ीसा, असम, मेघालय।
प्रमुख किस्में- बिरसा सोयाबीन-1, इंदिरा सोया-9, प्रताप सोया-9, MAUS- 71, JS- 80-21 आदि।

खेत की तैयारी
रबी की फसल की कटाई के बाद मई के महीने में हर तीन साल में एक बार गहरी जुताई करें। हर साल सामान्य जुताई करने के बाद खेत को खुला छोड़ देना चाहिए। जिससे इसमें रहने वाले हानिकारक कीट एवं सूक्ष्म जीवों तथा खरपतवारों को नष्ट किया जा सके। बिजाई से पहले खेत को कल्टीवेटर या हैरो चलाकर दो बार समतल करना चाहिए, ताकि खेत समतल हो जाए।

बुवाई का समय
सोयाबीन की खेती मुख्य रूप से खरीफ में की जाती है, कुछ क्षेत्रों में रबी और जायद में भी इसकी खेती की जा सकती है।
खरीफ के लिए जून-जुलाई के महीने में और रवि के लिए नवंबर के महीने में रोपाई करें। और जायद के लिए मार्च का महीना सबसे अच्छा है।

बीज मात्रा
  • छोटा दाना - 60 से 65 किग्रा प्रति हेक्टेयर, 
  • मध्यम दाना - 70 से 75 किग्रा प्रति हेक्टेयर 
  • मोटा दाना - 80 से 85 किग्रा प्रति हेक्टेयर।
बीज उपचार
बिजाई से पहले बीज को 2 ग्राम थीरम + 1 ग्राम कार्बेन्डाजिम प्रति किलो की दर से उपचारित करें। इसके बाद बीज को राइजोबियम और पीएसबी जीवाणु टीके से उपचारित करें। ठंडे गुड़ के घोल में जीवाणु टीका मिलाकर बीज को उपचारित करके बीज को छाया में सुखाकर तुरन्त बो दें।

बिजाई की विधि 
सोयाबीन को कतारों में, कतार से कतार की दूरी उत्तर भारत में 45 से 60 सेमी तथा पौधे से पौधे 5 से 7 सेमी की दूरी पर बोयें। बुवाई 3 से 4 सेमी की गहराई पर करनी चाहिए।

पोषक तत्व प्रबंधन
सोयाबीन से अच्छा उत्पादन प्राप्त करने के लिए लगभग 5 से 10 टन प्रति हेक्टेयर अच्छी तरह सड़ी गाय के गोबर को बुवाई से लगभग 20 से 25 दिन पहले खेत में अच्छी तरह मिला लें।
पोषक तत्वों की मात्रा, नाइट्रोजन - 20 से 25 किग्रा प्रति हेक्टेयर, फास्फोरस - 60 से 80 किग्रा प्रति हेक्टेयर, पोटाश - 40 से 50 किग्रा प्रति हेक्टेयर तथा सल्फर - 20 से 25 किग्रा प्रति हेक्टेयर।

खरपतवार प्रबंधन:- 
फ्लुक्लोरोलिन या ड्राइफ्लोरालिन 1 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर बुआई से पहले या पेन्डीमिथालीन 1 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर दें अथवा खरपतवार की दुबारा वृद्धि को नष्ट करने के लिए बुआई के 30 और 45 दिन बाद निराई -गुड़ाई करनी चाहिए।

जल प्रबंधन
सोयाबीन में सिंचाई की आवश्यकता मिट्टी के प्रकार, तापमान और वर्षा पर निर्भर करती है। यदि अधिक समय तक वर्षा न हो तो सिंचाई करनी चाहिए।

कीट नियंत्रण एवं रोग प्रबंधन।
कीट नियंत्रण:- थियोमेथोक्सम 25 डब्ल्यूजी @ 100 ग्राम प्रति हेक्टेयर का छिड़काव 7 से 10 दिनों की फसल पर उन जगहों पर करें जहां तना मक्खी फसल के शुरुआती चरण में नुकसान पहुंचाती है।

रोग प्रबंधन:- मायोथेसियम और सरकोस्पोरा पर्ण झुलसा और राइजोक्टोनिया एरियल ब्लाइट जैसे पत्ती रोगों की रोकथाम के लिए 0.5 किलोग्राम कार्बेन्डाजिम 50 डब्लूपी या थियोफेनेटेमिथाइल 70 डब्ल्यूपी को 700 से 800 लीटर पानी में 35 प्रति हेक्टेयर की दर से मिलाएं। और 50 दिन बाद दो स्प्रे करें।
बैक्टीरियल फफोले होने पर कॉपर ऑक्सीक्लोराइड @ 2 किग्रा + स्ट्रेप्टोमाइसिन @ 200 ग्राम प्रति 700 से 800 लीटर पानी में स्प्रे करें।
पीले मोज़ेक नियंत्रण के लिए थायोमेथोक्सम 25WG 200 ग्राम को 1000 लीटर पानी में या मिथाइलडेमेटोन 0.8 लीटर प्रति हेक्टेयर में स्प्रे करें।
रोली रोग नियंत्रण के लिए हेक्साकोनाजोल या प्रोपीकोनाजोल या ऑक्सीकारबॉक्सिन का दो या तीन छिड़काव 0.1 प्रतिशत की दर से करें, पहला रोग दिखाई देने पर और दूसरा 15 दिनों के बाद छिड़काव करें। बुवाई के 35 से 40 दिन बाद बचाव के लिए एक स्प्रे करें।

फसल की कटाई
जब सोयाबीन के पत्तों का रंग पीला हो जाये और फलियों का रंग पीला या भूरा हो जाये तो फसल को काट लेना चाहिए, कटाई के बाद चार से पांच दिनों तक खेत में सूखने देना चाहिए, ताकि अनाज में नमी की मात्रा कम हो जाती है। यह 13 से 14 प्रतिशत हो जाता है। फिर उसके बाद इसे गहरा करना चाहिए। ध्यान रहे कि कोल्हू की स्पीड 300 से 400 आरपीएम पर ही रखी जाए। सोयाबीन के बीज तेज गति से क्षतिग्रस्त हो जाते हैं।

पैदावार
यदि उपरोक्त सभी फसल विधियों को सही किस्म का चयन करके किया जाए तो 20 से 30 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज प्राप्त की जा सकती है।