Social Share:
जीवाश्म जैविक खेती में अहम भूमिका निभाते हैं, जानिए घर पर इन्हें कैसे बनाएं और कैसे करें इस्तेमाल
जीवाश्म जैविक खेती में अहम भूमिका निभाते हैं, जानिए घर पर इन्हें कैसे बनाएं और कैसे करें इस्तेमाल

जैविक खेती : कृषि में असंतुलित रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों के अत्यधिक उपयोग से मिट्टी की उर्वरता और स्वास्थ्य दोनों पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जिसका सीधा प्रभाव पौधों की वृद्धि और खाद्यान्न की उपज पर पड़ता है। इसे सुधारने और भूमि को उपजाऊ बनाने के लिए आजकल जैविक खेती पर ध्यान दिया जा रहा है। जिससे भूमि के लिए अनुकूल वातावरण का निर्माण किया जा सके और बढ़ती हुई जनसंख्या को भूखा रखा जा सके तथा उचित पोषक तत्वों से भरपूर खाद्यान्न की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके। 
इसे देखते हुए कृषि विज्ञान केंद्र परसौनी पूर्वी चंपारण के मृदा विशेषज्ञ आशीष राय ने केंद्र में किसानों को जागरूक करने के लिए जैविक खेती के कई घटकों की शुरुआत की है, जिसमें जैविक खेती के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली जीवाश्म की इकाई तैयार की गई है।

जीवामृत दो शब्दों का मेल है, जिसका अर्थ है जीवन और अमृत दोनों का मेल होता है और यह मिट्टी के लिए अमृत के समान माना गया है या देशी गाय के गोबर से,गोमूत्र, गुड, बेसन और उपजाऊ मिट्टी को आपस में मिलाने के बाद तैयार किया जाता है, जो न केवल फसल के लिए बल्कि मिट्टी के लिए भी अमृत के समान माना जाता है। जीवामृत एक बहुत ही प्रभावी जय उर्वरक है, विभिन्न प्रकार के हार्मोन जो पौधों की वृद्धि में सहायता करते हैं और पौधों को उनके पूरे जीवन काल में वृद्धि और उपज बढ़ाने में मदद करने में उपयोगी भूमिका निभाते हैं। यह मिट्टी में लाभकारी सूक्ष्म जीवों की संख्या को कई गुना बढ़ा देता है और एक अनुकूल वातावरण बनाता है, जिससे पौधों को विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों की उपलब्धता सुनिश्चित होती है, साथ ही यह देखा गया है कि मिट्टी में केंचुओं की संख्या बढ़ जाती है।

जीवामृत, जैविक खेती का एक महत्वपूर्ण घटक
जीवामृत मिट्टी में प्राकृतिक कार्बन, नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटाश और अन्य सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक महत्वपूर्ण स्रोत है, जो पौधों के समग्र विकास के लिए आवश्यक है, या मिट्टी के पीएच मान को सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कंपोस्ट वर्मी कंपोस्ट और अन्य जैविक खाद को तैयार करने में जो समय लगता है। जीवामृत उसे कम समय में तैयार होने वाला जैविक खाद है।

जीवामृत बनाने की विधि
देसी गाय के गोबर का उपयोग किया जाता है और तरल जीवामृत बनाने के लिए छायादार स्थान का चयन किया जाता है। जहां सीधी धूप नहीं होती है, लेकिन ठंड और गर्म वातावरण समान मात्रा में होता है। किसान आसानी से जीवामृत बना सकते हैं, इसके लिए एक मोटी प्लास्टिक की टंकी या एक स्थायी टैंक का उपयोग किया जाता है, जिसे ढक्कन के साथ ऊपर से बंद कर दिया जाता है, जिसे समय-समय पर ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए खोला जा सकता है और जीवामृत आसानी से तैयार किया जा सकता है।

जीवामृत बनाने के लिए महत्वपूर्ण सामग्री
जीवामृत, देसी गोबर 10 किलो, गोमूत्र 10 लीटर, गुड़,2 से 2.5 किलो, बेसन 2 किलो, उपजाऊ मिट्टी दो से ढाई किलो उपजाऊ मिट्टी बनाने के लिए पीपल या  वट वृक्ष के नीचे मिट्टी हो तो बेहतर। इसे एक स्थान पर लिया और एकत्र किया जाता है। इसके बाद एक टंकी में 200 लीटर पानी भरकर छोड़ दिया जाता है। फिर एक प्लास्टिक की बाल्टी में गाय का गोबर, गोमूत्र, अच्छा बेसन और मिट्टी को अच्छी तरह मिलाकर 200 लीटर के टैंक में डालकर अच्छी तरह घुमाया जाता है। अब इस मिश्रण को एक पेड़ के नीचे छायादार जगह पर 8 से 10 दिन तक रख दें। इसे बराबर 24 घंटे में कम से कम दो बार मिलाया जाता है। दो से तीन दिनों के बाद किण्वन की प्रक्रिया शुरू होती है। इससे सूक्ष्म जीवों की संख्या में वृद्धि होती है। 12 से 15 दिनों के बाद जीवामृत तैयार हो जाता है जिसके बाद हम इसे खेत में इस्तेमाल कर सकें।

जीवामृत का प्रयोग खेतों में कई प्रकार से किया जा सकता है जैसे,
1. फसल की बुवाई से पहले खेत की जुताई करते समय जीवामृत को मिट्टी पर छिड़क कर सिद्ध मिट्टी में मिला दिया जाता है।
2. सिंचाई के समय खेत में जाते समय पानी में जीवामृत डालकर आप पूरे खेत में जीवन का प्रसार कर सकते हैं, साथ ही इसे छानकर पूरे खेत में ड्रिप सिंचाई या फव्वारा सिंचाई के माध्यम से अच्छी तरह मिला सकते हैं। 
3. तरल जीवामृत का उपयोग फसल पर छिड़काव में भी किया जा सकता है, जीवामृत के निरंतर उपयोग से भूमि में केंचुओं की संख्या में वृद्धि देखी गई है। जीवामृत पौधों को मिट्टी से पोषक तत्वों को आसानी से अवशोषित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिससे मिट्टी की उर्वरता मजबूत होती है और मिट्टी में लाभकारी सूक्ष्म जीवों की संख्या बढ़ जाती है, जो आज की बदलती जलवायु के अनुकूल खेती करने में सहायक होते हैं।

कृषि में जीवामृत के लाभ
जीवामृत के प्रयोग से बीजों की अंकुरण क्षमता बढ़ती है, जिससे पौधे मजबूत बनते हैं और पौधों की वृद्धि चौतरफा होती है। पौधे अंतरिक्ष में घने होते हैं और अपेक्षाकृत लंबे भी होते हैं। जिससे पोषक तत्वों की गति तेज हो जाती है। पौधों में शाखाओं की संख्या बढ़ जाती है। जिससे फूलों और फलों की संख्या भी बढ़ जाती है। लाभकारी जीवाणुओं की संख्या में वृद्धि होने से फसलों में रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अधिक होती है, जिससे हानिकारक जीवाणुओं की संख्या कम हो जाती है जिसके कारण उपज में वृद्धि होती है तथा उत्पादन स्वादिष्ट एवं गुणवत्तापूर्ण होता है।