Social Share:
आधुनिक मशीनों से होगी खेती और बदल जाएगी किसानों की तकदीर
आधुनिक मशीनों से होगी खेती और बदल जाएगी किसानों की तकदीर

पुराने तौर तरीकों और उपकरणों के अभाव की वजह से आज भी हजारों किसान अपनी मेहनत के बराबर उपज नहीं हासिल कर पा रहे हैं। वर्तमान समय में नई-नई  तकनीकों और उपकरणों को अपनाने लगे है।  जहां पहले खेती के काम के लिए कई मजदूरों की आवश्यकता होती थी वहीं आज एक मशीन की सहायता से कई कार्य एक बार में ही निपटाएं जा सकते हैं। 

आधुनिक उपकरणों से आसान होती है खेती
खेती में पहले परंपरागत कृषि यंत्रों का प्रयोग किया जाता रहा है। जब से उत्पादन बढ़ाने को लेकर जोर दिया गया तब से किसान परंपरागत यंत्रों को छोड़ आधुनिक कृषि यंत्रों को अपनाने लगे हैं। आधुनिक यंत्रों की सहायता से खेती का काम काफी आसान हो गया है। इन यंत्रों के प्रयोग से न केवल समय की बचत होती है, अपितु लागत में भी कमी आती है। जहां पहले खेती के लिए कई मजदूरों की आवश्यकता होती थी, वहीं आज एक मशीन की सहायता से कई कार्य एक बार में ही निपटाए जा सकते हैं। कई कृषि यंत्र ऐसे हैं जो खेती के काम में काफी सहायता करते हैं। इससे कम लागत पर खेती करना आसान हो जाता है और मुनाफा भी अच्छा होने की उम्मीद रहती है।

आधुनिक उपकरण में ड्रोन का प्रयोग
एक अग्रणी कृषि देश होने के नाते, भारत को ड्रोन को अपनाने की भी आवश्यकता है जिसका उपयोग कृषि में कई उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। वे कई निगरानी कार्यों का प्रदर्शन करके किसानों को लागत कम करने और संभावित फसल पैदावार को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं। उन्नत सेंसर और डिजिटल इमेजिंग क्षमताओं के साथ, किसान फसल उत्पादन बढ़ाने और फसल की वृद्धि की निगरानी के लिए ड्रोन का उपयोग कर सकते हैं। मिट्टी के विश्लेषण में एक ड्रोन का उपयोग किया जा सकता है क्योंकि यह मिट्टी की उच्च गुणवत्ता वाली 3-डी छवियों को कैप्चर करने में सक्षम है।  इसका उपयोग फसल स्प्रेइंग, फसल निगरानी और रोपण के लिए भी किया जा सकता है, फसलों और फंगल संक्रमण के स्वास्थ्य का विश्लेषण करना जो उनके विकास को सीमित कर सकता है।

ड्रोन की मदद से कीटनाशक छिड़काव पर सैकड़ों एकड़ पर छिड़काव अधिक मात्रा में किया जा सकता है जिसमें कम समय और लागत की भी बचत होती है। इस तकनीक को बढ़ावा देने के लिए किसानों को जागरूक किया जा रहा है। यह तकनीक युवाओं को खेती की तरफ आकर्षित करने में बहुत सहायक है। इसके जरिए कम समय में खेतों में कीटनाशक का छिड़काव किया जा सकता है, जिससे खेती में लगने वाली लागत भी कम होगी।


इसी संदर्भ में IoTechWorld Avigation Pvt. Ltd. कंपनी ने AGRIBOT(10L) - ADVANCE AGRICULTURE DRONE, AGRIBOT PLUS, AGRIBOT COMBO का निर्माण किया है।

IoTechWorld एविगेशन प्राइवेट लिमिटेड, गुड़गांव, हरियाणा में स्थित एक ड्रोन निर्माण कंपनी। 

AGRIBOT (10L) - भारत में निर्मित एक कृषि ड्रोन, जिसे DGCA, NP-NT द्वारा अनुमोदित और IARI, MOA, PAU, HAU और कई कॉरपोरेट्स द्वारा परीक्षण किया गया है।


AGRIBOT एक बहुउद्देशीय ड्रोन है जिसका उपयोग किया जाता है - 
1. कीटनाशकों, कवकनाशी, शाकनाशी आदि का छिड़काव।
2. बीज, कणिकाओं, उर्वरकों आदि का प्रसारण।
3. फसल स्वास्थ्य विश्लेषण के लिए मल्टीस्पेक्ट्रल सेंसर माउंटिंग।